विश्व की प्रमुख उत्पादन क्रांतियां

विश्व की प्रमुख उत्पादन क्रांतियां , भारत में कृषि से सम्बंधित क्रांतियाँ , विश्व की प्रमुख उत्पादन क्रांतियों , भारत में प्रमुख कृषि क्रांति और सम्बन्धित उत्पादन , भारत विश्व मेँ सबसे बड़ा फल उत्पादक की क्रांति , विश्व की प्रमुख उत्पादन क्रांतियां,

विश्व की प्रमुख उत्पादन क्रांतियां

भारत में कृषि से सम्बंधित क्रांतियाँ :-
भारत में सबसे पहली क्रांति की शुरुआत 1966-67 में हुई हरित क्रांति से मानी जाती है | इस क्रांति के कारण भारत खाद्य उत्पादन में आत्म निर्भर हो गया| हरित क्रांति में मुख्य योगदान उन्नत किस्म के बीजों का रहा है | इसी क्रांति के बाद भारत में दुग्ध क्रांति, पीली क्रांति, गोल क्रांति नीली क्रांति आदि की शुरुआत हुई और भारत दूध, सरसों, आलू और मत्स्य उत्पादन में आत्म निर्भर हो गया |
भारत में सबसे पहली क्रांति की शुरुआत 1966-67 में हुई हरित क्रांति से मानी जाती है | इस क्रांति के कारण भारत खाद्य उत्पादन में आत्म निर्भर हो गया| हरित क्रांति में मुख्य योगदान उन्नत किस्म के बीजों का रहा है | इसी क्रांति के बाद भारत में दुग्ध क्रांति, पीली क्रांति, गोल क्रांति नीली क्रांति आदि की शुरुआत हुई और भारत दूध, सरसों, आलू और मत्स्य उत्पादन में आत्म निर्भर हो गया |

यह भी पढ़े :
विश्व के प्रमुख घास के मैदान

विश्व की प्रमुख उत्पादन क्रांतियों :-
क्रांति का नाम क्षेत्र तथ्य
हरित क्रांति (Green Revolution) – खाद्यान्न उत्पादन से सम्बंधित थी – इसके कारण गेहूं और धान की पैदावार में अच्छी बृद्धि हुई थी |
श्वेत क्रांति – दुग्ध उत्पादन से सम्बंधित है – इसकी शुरुआत 1964-65 हुई जिसे आगे ‘ऑपरेशन फ्लड’ कहा गया |
पीली क्रांति (yellow Revolution) – खाद्य तेलों और तिलहन फसलों के उत्पादन को बढ़ाने के लिए – भारत, तिलहन उत्पादन में आत्म निर्भर बन गया है | 2013-14 में 32.9 मिलियन टन तिलहन का उत्पादन हुआ था |
नीली क्रांति (Blue Revolution) – मत्स्य उत्पादन में बृद्धि के लिए चलाई गयी थी |
2013-14 में भारत में 95.8 लाख टन मछली का उत्पादन हुआ था | भारत विश्व का दूसरा सबसे बड़ा मछली उत्पादक देश बन गया है |
गुलाबी क्रांति (Pink Revolution) – यह प्याज और झींगा मछली के उत्पादन से सम्बंधित है |भारत विश्व का सबसे बड़ा झींगा मछली उत्पादक देश बन गया है|
काली क्रांति (Black Revolution) – पेट्रोलियम/खनिज तेलों के उत्पादन को बढ़ाने के लिए एथेनोल का उत्पादन भी बढाया जायेगा| इसका सम्बन्ध कोयला उत्पादन से भी है|
पेट्रोल में एथेनोल को 10% मिलाकर बायो डीजल बनाने का लक्ष्य है |
धूसर क्रांति (Grey Revolution) – उर्वरक उत्पादन में बृद्धि का लक्ष्य – इसी क्रांति के कारण देश में 25.5 मिलियन टन उर्वरक की खपत हो रही है |
रजत क्रांति (Silver Revolution) – भारत में अंडा उत्पादन और मुर्गियों की उत्पादकता बढ़ाने के लिए – भारत की मुर्गी एक वर्ष में 65 अंडे देती है जबकि अमेरिका में 295 अंडे | भारत में आंध्र प्रदेश सबसे बड़ा उत्पादक है |
सुनहरी क्रांति (Golden Revolution) – इसका सम्बन्ध बागवानी उत्पादन में बृद्धि से है जिसमे फल विशेषकर सेव उत्पादन| इसे शहद उत्पादन से भी जोड़ा जाता है|
भारत में बागवानी उत्पाद GDP में 31% योगदान देता है | भारत सब्जी और फल उत्पादन में विश्व मे दूसरा स्थान रखता है |
इन्द्रधनुषी क्रांति – इसमें हरित, पीली, नीली, लाल, गुलाबी, भूरी, धूसर और अन्य सभी क्रांतियों को साथ लेकर चलने का लक्ष्य है | – जुलाई 2000 में नयी कृषि नीति को लागू किया गया है इसी को इन्द्रधनुषी क्रांति कहा गया है |
सदाबहार क्रांति (Rainbow Revolution) – इसका उद्येश्य देश की मिट्टी को उन्नत बनाना, किसानों को लोन दिलाना, रेन वाटर हार्वेस्टिंग एवं कृषि शोध को बढ़ाना है|
इसके माध्यम से देश को पूरी तरह खाद्यान्न में निर्भर बनाना है|
गोल क्रांति (Round Revolution)) – इसका सम्बन्ध देश में आलू के उत्पादन को बढ़ाना है |
भारत, चीन के बाद विश्व का दूसरा सबसे बड़ा आलू उत्पादक देश है| भारत में सबसे बड़ा आलू उत्पादक उत्तर प्रदेश है|

भारत में प्रमुख कृषि क्रांति और सम्बन्धित उत्पादन :-
भारत में सबसे पहली कृषि क्रांति (Agricultural Revolutions) की शुरुआत 1966-67 में हुई हरित क्रांति से मानी जाती है, इस क्रांति के कारण भारत खाद्य उत्पादन में आत्म निर्भर हो गया, कृषि क्षेत्र में हुए शोध विकास, तकनीकि परिवर्तन एवं अन्य कदमों की श्रृंखला को संदर्भित करता है जिसके परिणाम स्वरूप पूरे विश्व में कृषि उत्पादन में अभूतपूर्व वृद्धि हुई, इसके बाद भारत में कृषि से सम्बंधित अनेक क्रांतियाँ हुई आईये जानते हैं भारत में प्रमुख कृषि क्रांति और सम्बन्धित उत्पादन – List of Important Agricultural Revolutions In India
रित क्रांति (Green Revolution) – खाधान्न उत्पादन (Food Production)
श्वेत क्रांति (White Revolution) – दुग्ध उत्पादन (Milk Production)
नीली क्रांति (Blue Revolution) – मत्स्य उत्पादन (Fish Production)
भूरी क्रांति (Brown Revolution) – उर्वरक उत्पादन (Fertilizer Production)
रजत क्रांति (Silver Revolution) – अंडा उत्पादन (Egg Production)
पीली क्रांति (Yellow Revolution) – तिलहन उत्पादन (Oilseed Production)
कृष्ण क्रांति (Black Revolution) – बायोडीजल उत्पादन (Biodiesel Production)
लाल क्रांति ((Red Revolution)) – टमाटर / मांस उत्पादन (Tomato / Meat Production)
गुलाबी क्रांति (Pink Revolution) – झींगा मछली उत्पादन (Shrimp Production)
बादामी क्रांति (Badami Revolution) – मसाला उत्पादन (Spice Production)
सुनहरी क्रांति (Golden Revolution) – फल उत्पादन (Fruit Production)
अमृत क्रांति (Amrit Revolution) – नदी जोड़ो परियोजनाएं (River Link Projects)
धुसर /स्लेटी क्रांति (Smooth / Gray Revolution) – सीमेंट उत्पादन (Cement Production)
इंद्रधनुषीय क्रांति (Rainbow revolution) – सभी क्रांतियों पर निगरानी रखने हेतु (To Monitor All Revolutions)
सनराइज/सुर्योदय क्रांति (Sunrise / Sunrise Revolution) – इलेक्ट्राॅनिक उधोग के विकास हेतु (For the Development of the Electronic Industry)
गंगा क्रांति (Ganga Revolution) – भ्रष्टाचार के खिलाफ सदाचार पैदा करने हेतु (To Create Goodness Against Corruption)
सदाबहार क्रांति (Evergreen Revolution) – जैव तकनीकी (Biotechnology)
सेफ्राॅन क्रांति (Sefran Revolution) – केसर उत्पादन (Saffron Production)
स्लेटी/ग्रे क्रांति (Gray / Gray Revolution) – उर्वरकों के उत्पादन (Production of Fertilizers)
मूक क्रांति (Silent Revolution) – मोटे अनाजों के उत्पादन से (Production of Coarse Grains)
परामनी क्रांति (Paramani Revolution) – भिन्डी उत्पादन से (From the Production of Bees)
खाध श्रंखला क्रांति (Food Chain Revolution) – भारतीय कृषकों की 2020 तक आमदनी को दुगुना करना (Doubling Income of Indian Farmers by 2020)
व्हाइट गोल्ड क्रांति (White Gold Revolution) – कपास उत्पादन से (Cotton Production)
N.H. क्रांति (N.H. Revolution) – स्वर्णिम चतुर्भुज योजना (Golden Quadrilateral Plan)
हरित क्रांति – खाद्द्यान्न (गेंहू-1, धान-2) – नीली क्रांति – मतस्य उत्पादन
2. लाल क्रांति – मांस / टमाटर उत्पादन – गुलाबी क्रांति – झींगा उत्पादन
3. पीली क्रांति – तिलहन उत्पादन – श्वेत क्रांति – दुग्ध उत्पादन
4. भूरी क्रांति – उर्वरक उत्पादन – सुनहरी क्रांति – बागवानी (फलोत्पादन)
5. रजत क्रांति – अंडा उत्पादन – गोल क्रांति – आलू उत्पादन
6. इन्द्रधनुष क्रांति – सभी क्रांतियों को मिलाकर

भारत विश्व मेँ सबसे बड़ा फल उत्पादक की क्रांति :-
भारत विश्व मेँ सबसे बड़ा फल उत्पादक और दूसरा सबसे बड़ा सब्जी उत्पादक है।
भारत विश्व मेँ काजू का सबसे बड़ा उत्पादक एवं निर्यातक है।
भारत को विश्व मेँ मसालोँ का सबसे बड़ा उत्पादकं उपभोक्ता और निर्यातक होने का गौरव प्राप्त है।
नॉरमन ई-बोरलाग को हरित क्रांति का जनक माना जाता है, हरित क्रांति से उत्पादन मेँ सबसे अधिक वृद्धि गेहूँ मे हुई, चावल का भाग लगभग स्थिर रहा है, जबकि मोटे अनाज एवं दालों के भाग घटे हैं।
रबड़ के उत्पादन मेँ भारत का विश्व मेँ चौथा स्थान है, देश मेँ रबड़ की प्रति हेक्टेयर उत्पादकता विश्व मेँ सर्वाधिक है। देश मेँ प्राकृतिक रबड़ का आयात कोलकाता एवं विशाखापत्तनम बंदरगाहों के माध्यम से होता है। खाद्य तेलोँ और तिलहन फसलोँ के उत्पादन के क्षेत्र मेँ अनुसंधान और विकास करने की रणनीति को पीली क्रांति कहा गया।

General Notes

Leave a Comment

error: Content is protected !!