राजस्थान की चंबल नदी , चम्बल बेसिन क्या है

नदी में कितनी नदियां मिलती है, नदी कैसे बहती है, नदी राजस्थान में कितने किलोमीटर बहती है, राजस्थान की प्रमुख नदियाँ, राजस्थान की प्राचीन सभ्यताएं, राजस्थान की सबसे बड़ी नदी कौनसी है, राजस्थान की नदियां ट्रिक, लूनी नदी राजस्थान, राजस्थान की प्रमुख नदियों के नाम, राजस्थान की नदियों का मानचित्र, राजस्थान का अपवाह तंत्र नदियां एवं झीलें, चम्बल बेसिन क्या है, नदी कैसे बहती है, नदी राजस्थान में कितने किलोमीटर बहती है, चम्बल बेसिन क्या है, नदी किसकी सहायक नदी है, चंबल नदी कौन से जिले में,

चंबल नदी :- नदी मध्य भारत में यमुना नदी की सहायक नदी है। यह नदी “जानापाव पर्वत ” बाचू पाईट महू से निकलती है। इसका प्राचीन नाम “चरमवाती ” है। इसकी सहायक नदिया शिप्रा, सिंध, काली सिन्ध, ओर कुनू नदी है। यह नदी भारत में उत्तर तथा उत्तर-मध्य भाग में राजस्थान के कोटा तथा धौलपुर, मध्य प्रदेश के धार, उज्जैन, रतलाम, मन्दसौर, भिंड, मुरैना आदि जिलो से होकर बहती है। यह नदी दक्षिण मुड़ कर उत्तर प्रदेश राज्य में यमुना में शामिल होने के पहले राजस्थान और मध्य प्रदेश के बीच सीमा बनाती है। इस नदी पर चार जल विधुत परियोजना -गांधी सागर, राणा सागर, जवाहर सागर और कोटा बैराज (कोटा)- चल रही है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] प्रसिद्ध चूलीय जल प्रपातचंबल नदी (कोटा) मे है। कुल लंबाई 135।, यह एक बारहमासी नदी है। इसका उद्गम स्थल जानापाव की पहाडी (मध्य प्रदेश) है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] यह दक्षिण में महू शहर के, इंदौर के पास, विंध्य रेंज में मध्य प्रदेश में दक्षिण ढलान से होकर गुजरती है। चंबल और उसकी सहायक नदियां उत्तर पश्चिमी मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र के नाले, जबकि इसकी सहायक नदी, बनास, जो अरावली पर्वतों से शुरू होती है इसमें मिल जाती है। चंबल, कावेरी, यमुना, सिन्धु, पहुज भरेह के पास पचनदा में, उत्तर प्रदेश राज्य में भिंड और इटावा जिले की सीमा पर शामिल पांच नदियों के संगम समाप्त होता है।

मुहाना :- उत्तर प्रदेश में बहते हुए 965 किलोमीटर की दूरी तय करके यमुना नदी में मिल जाती है। चम्बल नदी का कुल अपवाह क्षेत्र 19,500 वर्ग किलोमीटर हैं चम्बल यमुना नदी की मुख्य सहायक नदियों में से एक हैं। उतरप्रदेश के इटावा जिले के मुरादगंज के पास यमुना में मिल जाती है

प्रवाह क्षेत्र :- चंबल नदी पर भैंसरोड़गढ़ के पास प्रख्यात ‘चूलिया’ प्रपात है। यह नदी राजस्थान के कोटा, बूँदी, सवाई माधोपुर व धौलपुर ज़िलों में बहती हुई उत्तर प्रदेश के इटावा ज़िले के मुरादगंज स्थान में यमुना नदी में मिल जाती है। उत्तर प्रदेश में बहते हुए चंबल नदी 900 किलोमीटर की दूरी तय करती है। यह राजस्थान की एक मात्र ऐसी नदी है, जो वर्ष भर बहती है। इस नदी पर गांधी सागर, राणा प्रताप सागर, जवाहर सागर और कोटा बैराज बांध बने हैं।

लम्बाई :- चंबल नदी की कुल लंबाई 965 किलोमीटर है। यह राजस्थान में कुल 376 किलोमीटर तक बहती है।

सहायक नदियाँ :- चंबल के निचले क्षेत्र में 16 किलोमीटर की लंबी पट्टी बीहड़ क्षेत्र है, जो त्वरित मृदा अपरदन का परिणाम है और मृदा संरक्षण का एक प्रमुख परियोजना स्थल है। ये बाँध सिंचाई तथा विद्युत ऊर्जा के प्रमुख स्रोत हैं। चंबल की प्रमुख सहायक नदियाँ इस प्रकार हैं-

चंबल नदी, (राजस्थान और मध्य प्रदेश की सीमा पर) :-
1.) काली
2.) पार्वती
3.) बनास
4.) कुराई
5.) बामनी
6.) शिप्रा

Leave a Comment

error: Content is protected !!