पद्म श्री पुरस्कार

पद्म विभूषण पुरस्कार राशि , पद्मश्री पुरस्कार के फायदे , पद्मश्री पुरस्कार राशि , पद्मश्री अवार्ड लिस्ट , पद्म श्री विजेता , पद्म विभूषण पुरस्कार 2021 , पद्म श्री अवार्ड 2021, पद्मश्री पुरस्कार विजेते 2020 ,

पद्म श्री पुरस्कार

पद्म श्री पुरस्कार क्या है :-
पद्म श्री भारत सरकार द्वारा आम तौर पर सिर्फ भारतीय नागरिकों को दिया जाने वाला सम्मान है जो जीवन के विभिन्न क्षेत्रों जैसे कि, कला, शिक्षा, उद्योग, साहित्य, विज्ञान, खेल, चिकित्सा, समाज सेवा और सार्वजनिक जीवन आदि में उनके विशिष्ट योगदान को मान्यता प्रदान करने के लिए दिया जाता है।
भारत के नागरिक पुरस्कारों के पदानुक्रम में यह चौथा पुरस्कार है इससे पहले क्रमश: भारत रत्न, पद्म विभूषण और पद्म भूषण का स्थान है। इसके अग्रभाग पर, “पद्म” और “श्री” शब्द देवनागरी लिपि में अंकित रहते हैं।

यह भी पढ़े :
विश्व की प्रमुख जलसंधियां

पद्म श्री पुरस्कार इन क्षेत्रों में दिया जाता है :-
यह सम्मान साहित्य कला, शिक्षा, खेल, चिकित्सा, सामाजिक कार्य, विज्ञान, अभियांत्रिकी, पब्लिक अफेयर, सिविल सेवा, व्यापार और उद्योग में बेहतर प्रदर्शन के लिए दिया जाता है। बिना किसी भेदभाव के हर कोई इसे पाने का हकदार होता है। यह सम्मान मरणोंपरांत नहीं दिया जाता है। इस सम्मान के लिए नामों पर विचार करने के लिए प्रधानमंत्री हर साल एक समिति का गठन करते हैं।
एक साल दिए जाने वाले पद्म पुरस्कारों की संख्या 120 से ज्यादा नहीं होती है। अवार्ड पाने वालों को नाम भारत सरकार के गजट में प्रकाशित किए जाते हैं। इन पुरस्कारों की घोषणा हर साल 26 जनवरी को की जाती है और इसे खुद भारत के राष्ट्रपति राष्ट्रपति भवन में देते हैं। आमतौर पर यह सम्मान समारोह मार्च या अप्रैल के महीने में होता है। इन पुरस्कार पाने वालों को कोई अतिरिक्त सुविधा नहीं दी जाती है।

पद्म श्री पुरस्कार कौन-कौन सी सुविधाएं :-
संस्कृत में पद्म का मतलब कमल होता है। इसमें भी एक कांसे का फूल दिया जाता है।
साल 1954 में पहली बार पद्म अवार्ड की घोषणा की गई थी। 1978, 1979, 1993 और 1997 के अलावा से इन अवार्ड की घोषणा हर साल गणतंत्र दिवस के मौके पर की जाती है।
यह अवार्ड तीन श्रेणियों में पद्म विभूषण, पद्मभूषण और पद्मश्री के रूप में दिया जाता है। पद्मश्री विशिष्ट सेवा के लिए, पद्मभूषण विशिष्ट सेवा में उतकृष्टता के लिए और पद्मविभूषण किसी क्षेत्र में असाधारण प्रदर्शन के लिए दिया जाता है।

अब तक पद्म श्री पुरस्कार दिए गए व्यक्तियों कि सूची :-
महाराष्ट्र के अभय बंग एवं रानी बंग को चिकित्सा,
छत्तीसगढ़ के दामोदर गणेश बापट को सामाजिक कार्य,
असम के प्रफुल्ल गोविंद बरुआ को साहित्य, शिक्षा एवं पत्रकारिता,
उत्तरप्रदेश के मोहन स्वरुप भाटिया को कला व लोकसंगीत,
पश्चिम बंगाल के सुधांशु बिस्वास को सामाजिक कार्य,
मणिपुर की सैखोम मीराबाई चानू को खेल भारोत्तलन,
छत्तीसगढ़ के पंडित श्याम लाल चतुर्वेदी को साहित्य,
शिक्षा एवं पत्रकारिता, फिलीपींस के जोस मा जॉय (विदेशी) को उद्योग एवं व्यापार,
मणिपुर की लांगपोकलकपम सुभादानी देवी को बुनाई कला,
त्रिपुरा के सोमदेव बर्मन को खेल (टेनिस), हिमाचल प्रदेश के येशी ढोलन को चिकित्सा,
असम के अरुप कुमार दत्ता को साहित्य एवं शिक्षा, कनार्टक के डी गौडा को कला गायन,
महाराष्ट्र के अरविंद गुप्ता को साहित्य एवं शिक्षा,
झारखंड के दिगंबर हंसराज साहित्य एवं शिक्षा,
मलेशिया के रामली बिन इब्राहिम (विदेशी) को नृत्य,
उत्तरप्रदेश के अनवर जलालपुरी को साहित्य एवं शिक्षा,
नगालैंड के प्योंगतेन जेन जमीर को साहित्य एवं शिक्षा,
कनार्टक की सीताव्वा जोद्दाती को सामाजिक कार्य,
मध्यप्रदेश की मालती जोशी को साहित्य एवं शिक्षा,
महाराष्ट्र के मनोज जोशी को कला एवं अभिनय,
महाराष्ट्र के रामेश्वर लाल काबरा को व्यापार एवं उद्योग,
जम्मू कश्मीर के प्राण किशोर कौल को कला,
लाओस के बोनलैप कियोकांगना (विदेशी) को आर्टिटेक्चर,
पश्चिम बंगाल के विजय किचलू को कला (संगीत),
सिंगापुर के टॉमी कोह (विदेशी) को लोक सेवा, केरल की लक्ष्मीकुट्टी को औषधि,
असम की जयश्री गोस्वामी महंता को साहित्य एवं शिक्षा,
राजस्थान के नारायण दास महाराज को अन्य (अध्यात्म),
ओडिशा के प्रवाकारा महाराणा को मूर्तिकला, कम्बोडिया की हून मेनी (विदेशी) को लोक कार्य,
सऊदी अरब की नऊफ मारवाई (विदेशी) को योग,
गुजरात के जावेरीलाल मेहता को साहित्य एवं शिक्षा (पत्रकारिता),
पश्चिम बंगाल के कृष्ण बिहारी मिश्रा को साहित्य एवं शिक्षा,
महाराष्ट्र के शिशिर पुरुषोत्तम मिश्रा को कला (सिनेमा),
पश्चिम बंगाल की सुभाषिनी मिस्त्री को सामाजिक कार्य,
जापान के टोमियो मिजोकामी (विदेशी) को साहित्य एवं शिक्षा,
थाईलैंड के सोमदेत फ्रा महा मुनीवोंग (विदेशी) को अन्य (अध्यात्म),
मध्य प्रदेश के केशव राव मुसलगांवकर को साहित्य एवं शिक्षा,
म्यांमार के डॉ. थांत मिंत -यू (विदेशी) को लोक कार्य, तमिलनाडु की वी नानम्मल को योग,
कर्नाटक की सुलागिट्टी नरसम्मा को सामाजिक कार्य,
तमिलनाडु की विजयलक्ष्मी नवनीतकृष्णन को कला,
इंडोशिया के आई न्योमैन नुआतार् (विदेशी) को मूर्ति कला,
ब्रुनेई दारुसलाम के मलाई हाजी अब्दुल्ला बिन मलाई हाजी ओथमान को सामाजिक कार्य,
ओडिशा के गोवर्धन पनिका को कला (बुनाई), भवानी चरण पटनायक को लोक कार्य,
महाराष्ट्र के मुरलीकांत पेतकर को खेल (तैराकी),
ताजिकिस्तान के हबीबुल्ला राजाबोव (विदेशी) को साहित्य एवं शिक्षा,
केरल के एम आर राजगोपाल को चिकित्सा, महाराष्ट्र के संपत रामटेके को सामाजिक कार्य,
ओडिशा के चंद्र शेखर रथ को साहित्य एवं शिक्षा,
गुजरात के एस एस राठौड को लोक सेवा,
पश्चिम बंगाल के अमिताभ राय को विज्ञान,
नेपाल के संदूक रुईत (विदेशी) को चिकित्सा,
कनार्टक के आर सत्यनारायण को कला एवं संगीत,
गुजरात पंकज एम शाह को चिकित्सा, मध्य प्रदेश के भज्जू श्याम को कला (पेंटिंग),
राजस्थान के महाराव रघुबीर सिंह को साहित्य एवं शिक्षा,
आंध्रप्रदेश के के श्रीकांत को खेल (बैडमिंटन),
कर्नाटक के इब्राहिम सुतार को कला संगीत, सिद्धेश्वर स्वामीजी को अध्यात्मख,
नागालैंड की एल ए ठक्कर को सामाजिक कार्य,
उत्तराखंड के विक्रम चंद्र ठाकुर को विज्ञान,
कनार्टक के रुद्रपटटनम नारायण स्वामी तरंथन और रुद्रपटटनम नारायण स्वामी त्यागराजन को कला संगीत,
वियतनाम एन टी थियेन (विदेशी) को अध्यात्म,
उत्तरप्रदेश के भगीरथ प्रसाद त्रिपाठी को शिक्षा एवं साहित्य,
तमिलनाडु के राजगोपालन वासुदेवन को विज्ञान,
बिहार के मानस बिहारी वर्मा को विज्ञान,
महाराष्ट्र के पीजी विधोबाजी को साहित्य एवं शिक्षा,
तमिलनाडु के रामूलुस व्हिटाकर को वन्य जीव संरक्षण,
मध्यप्रदेश के बाबा योगेंद्र को कला और मिजोरम के ए जाकिया को शिक्षा एवं साहित्य के क्षेत्र में पद्मश्री सम्मान के लिए चुना गया है।

Award Notes

Leave a Comment

error: Content is protected !!