जनगणना से संबंधित

जनगणना कब होती है, 2011 की जनगणना कौन सी जनगणना थी, जनगणना का क्या अर्थ है, भारत में जनगणना कितने वर्ष बाद की जाती है, जनगणना कब होगा, 2021 जनगणना आयुक्त, जाति जनगणना, जनगणना से संबंधित प्रश्न, जनगणना विभाग, जनगणना की विशेषताएं, जनगणना का इतिहास, जनगणना से संबंधित , जनगणना से संबंधित प्रश्न , भारत की जनसंख्या प्रश्नोत्तरी , जनसंख्या से संबंधित प्रश्न , जनगणना विभाग , जनगणना 2011 के महत्वपूर्ण प्रश्न , भारत की जनगणना 2011 PDF , जनगणना 2021 कब शुरू होगी , जनगणना 2011 प्रश्नोत्तरी ,

जनगणना से संबंधित

राष्ट्रीय जनसंख्या :- जनगणना 2011 देश के इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। यह ऐसे समय में निष्पादित की जा रही है, जब भारत का नाम दुनिया और आधुनिक राष्ट्र के रूप में सशक्त होकर उभर रहा है। हमारे देश का मानव संसाधन दुनिया में अद्वितीय माना जाता है तथा हमारी अर्थव्यवस्था एवं संस्कृति इसे भविष्य का उन्नत देश बनाने में महत्वपूर्ण रोल निभा रही हैं।
जनगणना 2011 को दो चरणों में पूरा किया गया है। पहले चरण में अप्रैल से सितम्बर 2010 के बीच देशभर में घरों की गिनती कई है। दूसरे चरण की शुरुआत 9 फरवरी 2011 को हुई जो 28 फरवरी, 2011 तक चली।
राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) की रचना जनगणना 2011 के लिए मील का पत्थर है। यह देश के निवासियों के लिए एक व्यापक पहचान डाटाबेस का निर्माण करेगा। इसे बॉयोमीट्रिक डाटा की तरह सुरक्षित रखकर उपयोग किया जाएगा, जिसमें प्रत्येक व्यक्ति (15 वर्ष एवं उससे अधिक आयु वर्ग के लोग) की अद्वितीय पहचान संख्या (यूआईडी) दर्ज रहेगी, महापंजीयक और जनगणना आयुक्त, भारत सरकार के कार्यालय द्वारा देश के सभी सामान्य निवासियों को चरणबद्ध तरीके से राष्ट्रीय पहचान पत्र वितरित किया जाएगा।

यह भी पढ़े :  इंदिरा गांधी नहर परियोजना

2011 की जनगणना में कुल अनंतिम जनसंख्या की जानकारी :-
1.) भारत के जनगणना आयुक्त और महापंजीयक कार्यालय द्वारा 2011 के कुल अनंतिम जनसंख्या पर दी गई जानकारी प्राप्त करें। उपयोगकर्ता राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की कुल अनंतिम जनसंख्या, पेपर 1 और 2 से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

2.) भारत के जनगणना आयुक्त और महापंजीयक कार्यालय द्वारा गांवों, कस्बों, जिलों आदि पर दी गई जानकारी प्राप्त करें। उपयोगकर्ता राज्य के नाम का चयन करते हुए शहर या गांव का नाम दर्ज कर गांवों, कस्बों, जिलों, जिला कोड, उप-जिला, उप-जिला कोड की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

3.) भारत के जनगणना आयुक्त और महापंजीयक कार्यालय द्वारा लिंग संबंधी आंकड़े की डाटा शीट दी गई है। उपयोगकर्ता राज्य का नाम और जिले का नाम का चयन करके लिंग संबंधी आँकड़ों की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। लिंगानुपात, महिला साक्षरता दर, कार्यरत महिलाओं की दर आदि के बारे में भी जानकारी दी गई है।

4.) भारत के जनगणना आयुक्त और महापंजीयक कार्यालय द्वारा उपलब्ध कराये गए सेंसस इन्फो इंडिया डैशबोर्ड की मदद से जनगणना के परिणाम पर समेकित रिपोर्ट देखें। उपयोगकर्ता सेंसस इन्फो इंडिया 2011, मकान, घरेलू सुविधाओं, संपत्ति आदि के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

5.) भारत के जनगणना आयुक्त और महापंजीयक कार्यालय द्वारा उपलब्ध कराये गए 2001 जनगणना संबंधी आंकड़े ऑनलाइन देखें। कस्बों, वहाँ की जनसंख्या, भाषा, मातृभाषा और जनगणना संदर्भ तालिकाओं से संबंधित जानकारी दी गई है। पंजीकृत उपयोगकर्ता लॉग इन कर ये आंकड़े ऑनलाइन देख सकते हैं।

6.) भारत के जनगणना आयुक्त और महापंजीयक कार्यालय द्वारा उपलब्ध कराये गए 2001 जनगणना के संक्षिप्त आंकड़े ऑनलाइन देखें। उपयोगकर्ता भारत, इसके राज्यों, जिलों, अनुमानित जनसंख्या, भूमि क्षेत्रों के लिए कोड सूची, गणना के बाद के सर्वेक्षण पर रिपोर्ट आदि देख सकते हैं। जनगणना के आंकड़ों को खोजने, मेटा डेटा और सूची की भी जानकारी उपलब्ध है।

7.) भारत के जनगणना आयुक्त और महापंजीयक कार्यालय द्वारा राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर बायोमीट्रिक नामांकन योजना पर दी गई जानकारी प्राप्त करें। उपयोगकर्ता राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के तहत आवास के पंजीकरण, दिल्ली, गोवा, नागालैंड और ओडिशा में नगर निगम वार्डों के लिए बायोमीट्रिक नामांकन कार्यक्रम और एनपीआर के लिए वार्ड के आधार पर प्रभारी अधिकारियों की सूची से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

8.) भारत के जनगणना आयुक्त और महापंजीयक कार्यालय द्वारा भारत की भाषाई सर्वेक्षण पर दी गई जानकारी प्राप्त करें। उपयोगकर्ता राजस्थान, सिक्किम, उड़ीसा और दादरा व नगर हवेली के भाषाई सर्वेक्षण के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। विभिन्न राज्यों के विभिन्न भाषाई समूहों के बारे में जानकारी दी गई है

9.) भारत के जनगणना आयुक्त और महापंजीयक कार्यालय द्वारा 2011 की प्रशासनिक एटलस के बारे में जानकारी प्रदान की गई है। उपयोगकर्ता केंद्र और राज्य सरकारों के प्रशासनिक प्रभागों से संबंधित आँकड़े और इन पर विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। देश में नव-निर्मित जिलों के विवरण सहित एक नक्शा भी यहाँ दिया गया है।

10.) भारतीय जनगणना के सैंपल पंजीकरण प्रणाली के बारे में जानकारी प्राप्त करें। उपयोगकर्ता उर्वरता संकेतक, मृत्यु-दर संकेतक, जनसंख्या की संरचना, सैंपल पंजीकरण प्रणाली आंकड़ा रिपोर्ट 2010, फ्लो-चार्ट आदि से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं |

Rajasthan Geography Notes

Leave a Comment

error: Content is protected !!