ध्वनि के प्रकार

ध्वनि कितने प्रकार के होते हैं , ध्वनि क्या है और यह कैसे उत्पन्न होती है, ध्वनि क्या है उदाहरण देकर समझाइए, ध्वनि कौन सी तरंग है, ध्वनि के प्रकार in music , संगीत में ध्वनि के प्रकार , ध्वनि के प्रकार in Science , ध्वनि के भेद , ध्वनि की परिभाषा और भेद , ध्वनि तरंगों के प्रकार , ध्वनि के कितने भेद होते हैं , ध्वनि के गुण ,

ध्वनि क्या है :- कम्पन करने वाली प्रत्येक वस्तु ध्वनि उत्पन्न करती है और जब ध्वनि की तीव्रता अधिक हो जाती है तो वह कानों को अप्रिय लगने लगती है। इस अवांछनीय अथवा उच्च तीव्रता वाली ध्वनि को शोर कहते हैं। शोर से मनुष्यों में अशान्ति तथा बेचैनी उत्पन्न होती है। साथ ही साथ कार्यक्षमता पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। वस्तुतः शोर वह अवांक्षनीय ध्वनि है जो मनुष्य को अप्रिय लगे तथा उसमें बेचैनी तथा उद्विग्नता पैदा करती हो। पृथक-पृथक् व्यक्तियों में उद्विग्नता पैदा करने वाली ध्वनि की तीव्रता अलग-अलग हो सकती है। वायुमंडल में अवांछनीय ध्वनि की मौजूदगी को ही ‘ध्वनि प्रदूषण’ कहा जाता है। ध्वनि प्रदूषण से होने वाले खतरों की गम्भीरता को देखकर नोबेल पुरस्कार विजेता वैज्ञानिक राबर्ट कोच ने आठ दशक पूर्व प्रतिक्रिया व्यक्त की थी कि भविष्य में एक दिन ऐसा आएगा, जब मनुष्य को स्वास्थ्य के सबसे बड़े शत्रु के रूप में शोर से संर्घष करना पड़ेगा। कैलीफोर्निया विश्वविद्यालय के पूर्व चान्सलर डॉ. वर्ननुडसन का मत है कि शोर एक धीमी गति वाला मृत्युदण्ड है।

ध्वनि से सम्बंधित महत्वपूर्ण तथ्य :-
1) ध्वनि की तरंगे अनुदैर्ध्य होती हैं।
2) ध्वनि तरंगे ध्रुवित नहीं हो सकती हैं।
3) डेसीबल ध्वनि की तीव्रता को मापने का यंत्र है।
4) पानी के अन्दर ध्वनि की तीव्रता हाइड्रोजन से ज्ञात की जाती है।
5) घण्टे धातुओं के बनाए जाते हैं क्योंकि धातुओं में प्रत्यास्थता का गुण होता है।
6) ताप बढ़ने से ध्वनि वेग बढ़ जाता है।
7) वायु की आर्द्रता बढ़ने से उसमें ध्वनि वेग बढ़ जाता है।
8) किसी गैस में ध्वनि की चाल, उसके परम ताप के वर्गमूल के अनुक्रमानुपाती होती है।
9) ध्वनि तरंगों में व्यतिकरण होता है।
10) ध्वनि स्रोत और श्रोता के बीच सापेक्ष गति होने पर श्रोता द्वारा सुनी गई ध्वनि की आवृत्ति 11) ध्वनि की वास्तविक आवृत्ति से भिन्न होती है, इसे डॉप्लर का प्रभाव कहते हैं।
11) डॉप्लर प्रभाव ध्वनि के आवृत्ति परिवर्तन से संबंधित है। उसकी तीव्रता से नहीं।
12) डॉप्लर प्रभाव प्रकाश तरंगों के लिए भी लागू होता है।
13) प्रतिध्वनि ध्वनि के परावर्तन से उत्पन्न होती है।
14) पराध्वनिक यानों के इंजनों द्वारा उत्पन्न ध्वनि की आवृत्ति श्रत्य क्षेत्र के परे होती है।
15) सितार तथा वीणा से उत्पन्न एक ही सुर गुणता में भिन्न होता है।
16) निर्वात् में ध्वनि तरंगें नहीं चल सकती।
17) ध्वनि की पिच उसकी आवृत्ति होती है।
18) सोनार ध्वनि तरंगों के परावर्तन पर कार्य करता है।
19) ध्वनि की चाल वायु द्रव की अपेक्षा ठोस में अधिक होती है।
20) ध्वनि की श्रव्य आवृत्ति 20 से 20,000 हर्ट्ज़ होती है।
21) सर्वप्रथम पराश्रत्य तरंगें गाल्टन द्वारा एक सीटी से उत्पन्न की गई थीं।
22) माइक्रोफोन में ध्वनि ऊर्जा, विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित होती है।
23) दूर बज रहे साइरन से घड़ी मिलाने पर वह सुस्त होगी।

यह भी पढ़े :
COMPUTER क्या है

ध्वनि प्रदूषण के स्रोत :- ध्वनि प्रदूषण मुख्यतः दो प्रकार के स्रोतों से होता है –
प्राकृतिक स्रोत – बिजली की कड़क, बादलों की गड़गड़ाहट, तेल हवाएं, ऊंचे स्थान से गिरता जल, आंधी, तूफान, ज्वालामुखी का फटना एवं उच्च तीव्रता वाली जल वर्षा आदि।
कृत्रिम स्रोत – यह स्रोत मानव जनित है। उदाहरणार्थ- मोटर वाहनों से उत्पन्न होने वाला शोर, वायुयानो से होने वाला शोर, रेलगाड़ियों तथा उनकी सीटी से होने वाला शोर, लाउडस्पीकरों एवं म्यूजिक सिस्टम से होने वाला शोर, टाइपराइटरो की खड़खड़ाहट, टेलीफोन की घण्टी आदि से उत्पन्न होने वाला शोर आदि।

ध्वनि तरंगे :- ध्वनि कंपन के कारण होती है। उत्पन्न होने वाली ध्वनि की पिच और मात्रा इन कंपन के आकार और गति से निर्धारित होती है। मनुष्य के कान ध्वनि को इकट्ठा करने और संसाधित करने के लिए विकसित हुए हैं, जिससे हमें सुनने की अनुमति मिलती है। ध्वनि का उपयोग विभिन्न चीजों की श्रेणी के लिए किया जाता है, जैसे मेडिकल इमेजिंग और सोनार। छात्रों को आरेख बनाने और ध्वनि तरंगों और उनके उपयोगों को समझने के लिए निम्नलिखित गतिविधियों का उपयोग करने में आनंद आएगा।

ध्वनि स्तर का मापन :- ध्वनि विज्ञान को श्रवण विज्ञान कहते है। ध्वनि की सामान्य मापन इकाई डेसिबल संक्षेप में db कहलाती है। डेसिबल ध्वनि की तीव्रता की मापन इकाई है। ध्वनि दाब की अन्य मापन इकाई वेटेड साउंड प्रेसर या भारित ध्वनि दाब है, जिसे संक्षिप्त रूप में db(A) नाम से जाना जाता है। ध्वनि की तीव्रता के मापन की दो इकाइयों db तथा db(A) में मूलभूत अंतर यह है कि db ध्वनि तीव्रता की माप है जबकि db(A) ध्वनि दाब की माप है, डेसिबल (db) मापक शून्य से प्रारंभ होता है, जो सामान्य मनुष्य के कान द्वारा सुनी जा सकने वाली सर्वाधिक धीमी आवाज को प्रदर्शित करता है। डेसिबल मापक में प्रति दस गुना वृद्धि का मतलब 10 db है। यदि सर्वाधिक मंद मापक पर ध्वनि तीव्रता 10 db वृद्धि होती है तो डेसिबल मापक ध्वनि तीव्रता 10 db होगी। यदि ध्वनि की तीव्रता में 100 गुना वृद्धि हो जाती है तो वह 20 db होगी, 1000 गुना वृद्धि हाने पर ध्वनि की तीव्रता डेसिबल मापक पर 30 db होगी।

ध्वनि तरंगों का आवृत्ति परिसर :-
i) अवश्रव्य तरंगें (infrasonic waves) : 20Hz से नीचे से आवृत्ति वाली ध्वनि तरंगों को अवश्रव्य तरंगें कहते हैं. इसे हमारा कान नहीं सुन सकता है. इस प्रकार की तरंगो को बहुत बड़े आकर के स्रोत्रों से उत्पन्न किया जा सकता है |
ii) श्रव्य तरंगें (audible waves): 20Hz से 2000Hz के बीच की आवृत्ति वाली तरंगों को श्रव्य तरंगें कहते हैं इन तरंगों को हमारा कान सुन सकता है |
iii) पराश्रव्य तरंगें (ultrasonic waves): 2000Hz से ऊपर की तरंगों को पराश्रव्य तरंगें कहा जाता है. मुनष्य के कान इसे नहीं सुन सकता है परंतु कुछ जानवर जैसे कुत्ता,बिल्ली,चमगादड़ आदि, इसे सुन सकते है इन तरंगों को गाल्टन की सीटी के द्वारा तथा दाब वैद्युत प्रभाव की विधि द्वारा क्वार्ट्ज के क्रिस्टल के कंपन्नों से उत्पन्न करते है इन तरंगो की आवृत्ति बहुत ऊंची होने के कारण इसमें बहुत अधिक ऊर्जा होती है साथ ही इनका तरंगदैधर्य छोटी होने के कारण इन्हें एक पतले किरण पुंज के रूप में बहुत दूर तक भेजा जा सकता है |

पराश्रव्य तरंगें के उपयोग :-
i) संकेत भेजने में
ii) समुद्र की गहराई का पता लगाने में
iii) कीमती कपड़ो वायुयान तथा घड़ियों के पुर्जो को साफ़ करने में
iv) कल-कारखानों की चिमनियों से कालिख हटाने में
v) दूध के अंदर के हानिकारक जीवाणुओं की नष्ट में
vi) गठिया रोग के उपचार एवं मष्तिष्क के ट्यूमर का पता लगाने में

ध्वनि पृष्ठभूमि की जानकारी :- हमने जो कुछ भी सुना है वह एक कंपन द्वारा बनाया गया है जिसकी ऊर्जा अनुदैर्ध्य तरंगों का उपयोग करके हमारे कानों में स्थानांतरित की गई है। अनुदैर्ध्य तरंगें वे तरंगें होती हैं जहां माध्यम के कण उसी दिशा में कंपन करते हैं जिस दिशा में तरंग यात्रा कर रही होती है। ध्वनि तरंगें ठोस, द्रव और गैसों के माध्यम से यात्रा कर सकती हैं। हालाँकि, क्योंकि उन्हें माध्यम से यात्रा करने के लिए एक माध्यम की आवश्यकता होती है, ध्वनि तरंगें निर्वात से नहीं जा सकती हैं, ध्वनि तरंगें ठोस पदार्थों में सबसे तेज यात्रा करती हैं क्योंकि कण एक साथ करीब होते हैं और मजबूत बंधन होते हैं। हवा में ध्वनि 340 m / s, पानी में 1560 m / s और स्टील में 5000 m / s तक जाती है। यह प्रकाश की गति से बहुत धीमा है, जो 3 x 10 8 m / s (300,000,000 m / s) है। यह बताता है कि हम पहले बिजली की चमक क्यों देखते हैं और फिर गड़गड़ाहट की आवाज़ सुनते हैं। अन्य तरंगों की तरह, जैसे विद्युत चुम्बकीय तरंगों , ध्वनि तरंगों को प्रतिबिंबित, अपवर्तित और विचलित किया जा सकता है। प्रतिबिंबित ध्वनि तरंगों को आमतौर पर ‘गूँज’ के रूप में जाना जाता है, ध्वनि की मात्रा और पिच ध्वनि तरंग के आकार से संबंधित होती है। एक लहर की जोर तरंग के आयाम से संबंधित है। बड़ा आयाम, ध्वनि जोर से। पिच एक लहर की आवृत्ति से संबंधित है, जिसे हर्ट्ज में मापा जाता है। उच्च आवृत्ति वाली एक लहर में एक उच्च पिच होता है। यद्यपि हम ध्वनि तरंगों को नहीं देख सकते हैं, हम तरंगों के दृश्य प्रतिनिधित्व का उत्पादन करने के लिए एक माइक्रोफोन से जुड़े आस्टसीलस्कप का उपयोग कर सकते हैं। एक आस्टसीलस्कप का उपयोग करके, हम विभिन्न तरंगों की पिच और ज़ोर की तुलना कर सकते हैं।

ध्वनि प्रदूषण नियंत्रण उपायों को लागू करने की जिम्मेदारी :- किसी भी क्षेत्र/अंचल में शोर के स्तर, परिवेशी वायु गुणवत्ता के लिए शोर के मानकों से अधिक नहीं होंगे जो अनुसूची में विनिर्दिष्ट किए गए हैं, ध्वनि प्रदूषण नियंत्रण के उपायों तथा शोर के संबंध में परिवेश वायु गुणवत्ता मानकों का अनुपालन लागू करने के लिए प्राधिकरण जिम्मेदार होगा।

संगीत ध्वनि या शोर को जारी रखने से निषिद्ध करने की शक्ति :- यदि प्राधिकरण किसी पुलिस स्टेशन के प्रभारी अधिकारी की रिपोर्ट से या प्राप्त हुई अन्य सूचना से संतुष्ट हो कि जनता को अथवा आसपास किसी संपत्ति में रह रहे या कब्जा लिए हुए किसी व्यक्ति को कष्ट, अशांति, तकलीफ या चोट को रोकने अथवा कष्ट, अशांति, तकलीफ या चोट का जोखिम रोकने के लिए ऐसा करना आवश्यक है, तो वह निम्नलिखित को रोकने, निषिद्ध करने, नियंत्रित करने अथवा विनयमित करने के लिए किसी भी व्यक्ति को एक लिखित आदेश के द्वारा ऐसे निर्देश जारी कर सकता है |

किसी भी परिसर में या उसके निकट निम्नलिखित घटना होना या उसका जारी रहना
कोई भी स्वर संगीत या वाद्य संगीत :-
लाउडस्पीकरों, सार्वजनिक संबोधन प्रणालियों, उपकरणों या तंत्रों या युक्तियों सहित, जो ध्वनि उत्पादन या पुन: उत्पादन करने में सक्षम हों, किसी भी उपकरण को चलाने, बजाने, थपकी देकर बजाने या किसी भी तरह से प्रयोग करने के कारण उत्पन्न होने वाली ध्वनियां, अथवा
किसी भी परिसर में या उसके निकट, कोई भी ऐसा व्यापार, उद्यम या परिचालन कार्य अथवा प्रक्रिया संचालित करना जिसके कारण शोर पैदा हो या जिसमें शोर शामिल हो।
उप-नियम के अधीन शक्तिप्राप्त प्राधिकरण अपनी पहल पर, अथवा उप-नियम के तहत दिए गए किसी आदेश से पीड़ित किसी व्यक्ति के आवेदन पर, किसी भी ऐसे आदेश को रद्द कर सकता है, संशोधित या बदल सकता है, बशर्ते, ऐसे किसी भी आवेदन का निपटान करने से पहले, उक्त प्राधिकरण आवेदक को व्यक्तिगत रूप से या प्रतिनिधित्व करने वाले किसी व्यक्ति के माध्यम से अपने समक्ष पेश होने तथा आदेश के विरुद्ध कारण साबित करने का अवसर प्रदान करेगा, और यदि प्राधिकरण ऐसे किसी भी आवेदन को पूर्णत: अथवा आंशिक रूप से अस्वीकृत करता है, तो इस प्रकार अस्वीकार करने के कारण दर्ज करेगा।

ध्वनि प्रदूषण की शिकायत करने के लिए शुरू की वेबसाइट :- नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल एनजीटी के निर्देश के बाद लोगों की शिकायतों को दर्ज करने के साथ उन पर कार्रवाई करने के लिए वेबसाइट भी शुरू की है। वेबसाइट के जरिये शिकायत दर्ज करने के लिए सबसे पहले मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा। उस पर ओटीपी आएगा। इसे दर्ज करने के बाद शिकायत करने का प्लेटफार्म खुल जाएगा।

General Science Notes

आज हम इस पोस्ट के माध्म से आपको ध्वनि के प्रकार की संपूर्ण जानकारी इस पोस्ट के माध्यम से आपको मिल गई  अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगे तो आप इस पोस्ट को जरूर अपने दोस्तों के साथ शेयर करना

Leave a Comment

error: Content is protected !!