भारत की सीमाए

भारत की जलीय सीमा , भारत की स्थलीय सीमा , भारत की जल सीमा से लगे देश , भारत की समुद्री सीमा , भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमा , भारत की सीमा कितने देशों से लगती है , भारत की जलीय सीमा वाले देश , भारत की सीमा कितने पड़ोसी देशों से मिलती है , भारत की सीमाए ,

भारत की सीमाए

भारत की सीमा से कौन-कौन से पड़ोसी देशों की सीमायें मिलती है :-
क्षेत्रफल के हिसाब से हमारा देश दुनिया का सातवां और दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा देश है इसकी सीमाएं 7 देशों से मिलती हैं इससे जुड़े सवाल कई प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाते हैं चलिए आज आपको अपने देश की अंतरराष्ट्रीय सीमाओं से जुड़ी जानकारी दे देते हैं जो हमें हमारे देश की भौगोलिक स्थिति को समझने में भी हमारी मदद करेगी |भारत की सीमाए |

भारत के पड़ोसी देशों व स्थलीय सीमा रेखाओं के नाम :-
क्षेत्रफल व जनसंख्या की दृष्टि से भारत दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा देश है,जिसकी सीमाएँ सात देशों से मिलती हैं| भारत के 17 राज्यों की सीमाएँ इन पड़ोसी देशों से मिलती हैं| रेडक्लिफ रेखा भारत व पाकिस्तान और भारत व बांग्लादेश को, मैकमोहन रेखा भारत और चीन को तथा डूरंड रेखा भारत और अफगानिस्तान को अलग करती है|भारत की सीमाए क्षेत्रफल व जनसंख्या की दृष्टि से भारत दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा देश है, जिसकी सीमाएँ सात देशों से मिलती हैं| भारत के 17 राज्यों की सीमाएँ इन पड़ोसी देशों से मिलती हैं|भारत की सीमाए |

यह भी पढ़े :
पद्म विभूषण पुरस्कार

भारत की मैकमोहन रेखा :-
इसका निर्धारण ब्रिटिश इंडियन आर्मी Lieutenant Colonel Sir Arthur Henry McMahon ने किया था ये रेखा भारत को चीन से अलग करती है इस रेखा को 1914 में शिमला सम्मेलन में चीन, तिब्बत और भारत की सीमा के रूप में प्रस्तावित किया गया था. हालांकि, चीन इसे लेकर अकसर विवाद खड़ा करता रहता है क्योंकि वो तिब्बत को एक देश मानता ही नहीं |भारत की सीमाए |

भारत की रेडक्लिफ रेखा :-
यह रेखा भारत और पाकिस्तान व भारत और बांग्लादेश को अलग करती है| मूलत भारत और पाकिस्तान के बीच की इस रेडक्लिफ रेखा का निर्धारण सर सायरिल रेडक्लिफ द्वारा वर्ष 1947 में किया गया था| इस रेखा के निर्धारण के समय बांग्लादेश पूर्वी पाकिस्तान के नाम से जाना जाता था और पाकिस्तान का ही हिस्सा था| बाद में पूर्वी पाकिस्तान के बांग्लादेश के रूप में स्वतंत्र होने के बाद रेडक्लिफ रेखा भारत और बांग्लादेश के बीच की भी सीमा रेखा बन गयी | भारत की सीमाए |
मैकमोहन रेखा- मैकमोहन रेखा भारत को चीन से अलग करती है और इसका निर्धारण सर हेनरी मैकमोहन द्वारा वर्ष 1914 में किया गया था|
डूरंड रेखा- डूरंड रेखा भारत को अफगानिस्तान से अलग करती है| इस रेखा का निर्धारण सर हेनरी मोर्टिमर डूरंड द्वारा वर्ष 1896 में किया गया था| भारत के विभाजन से पूर्व, भारत व पाकिस्तान एक ही देश थे, भारत व अफगानिस्तान की सीमा का निर्धारण डूरंड रेखा द्वारा ही होता था| यह भारत की सबसे छोटी सीमा रेखा है और वर्तमान में ‘पाक-अधिकृत कश्मीर’ (PoK) और अफगानिस्तान को अलग करती है |
वर्ष 1947 में भारत के विभाजन के बाद पाकिस्तान भारत और पाकिस्तान के मध्य स्थित तब तक स्वतंत्र जम्मू-कश्मीर रियासत पर स्थानीय जनजातियों के सहयोग से पाकिस्तान ने आक्रमण कर दिया| इसके बाद जम्मू-कश्मीर रियासत के महाराज हरी सिंह ने भारत से मदद मांगी और भारत के साथ विलय पत्र पर हस्ताक्षर कर दिये| भारतीय सेना द्वारा आक्रमणकारियों को खदेड़ दिया गया लेकिन जम्मू-कश्मीर के जिस क्षेत्र पर पाकिस्तान द्वारा कब्जा कर लिया गया था उसे वापस नहीं लिया जा सका क्योंकि यह सीमा विवाद संयुक्त राष्ट्र संघ में चला गया| अतः भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य का वह हिस्सा जो पाकिस्तान के अवैध कब्जे में है, ‘पाक-अधिकृत कश्मीर’ (PoK) कहलाता है|

भारत की डूरंड रेखा :-
1896 में ब्रिटिश राजनयिक Sir Mortimer Durand ने इस लाइन की मदद से भारत और अफ़गानिस्तान की सीमा निर्धारित की थी ये भारत की सबसे छोटी सीमा रेखा है और वर्तमान में ‘पाक-अधिकृत कश्मीर’ (PoK) और अफ़गानिस्तान को अलग करती है |भारत की सीमाए |

भारत की Line of Actual Control (LAC) :-
4,057 किलोमीटर लंबी ये सीमा रेखा जम्मू-कश्मीर में भारत अधिकृत क्षेत्र और चीन अधिकृत क्षेत्र अक्साई चीन को अलग करती है ये नियंत्रण रेखा से अलग, वास्तविक नियंत्रण रेखा भारत और चीन के बीच की वास्तविक सीमा रेखा है 1962 के भारत-चीन युद्ध विराम के बाद दोनों देशों की सेनाएं जहां तैनात थी, उसे वास्तविक नियंत्रण रेखा मान लिया गया था |

भारत की Line of Control (LOC) :-
ये नियंत्रण रेखा भारत और पाकिस्तान के बीच खींची गई 740 किलोमीटर लंबी सीमा रेखा है ये रेखा आज़ादी के बाद से ही दोनों देशों के बीच विवाद का विषय बनी हुई है. इसे 1947 में हुए भारत-पाक युद्ध विराम के बाद ही खींचा गया था 1972 भारत-पाक युद्ध के बाद हुए शिमला समझौते में इस नियंत्रण रेखा को फिर से बहाल किया गया था |

भारत इन देशों के साथ भी अपना बॉर्डर शेयर करता है :-
1. भारत- बांग्लादेश की सीमा करीब 4000 किलोमीटर है ये सीमा पश्चिम बंगाल, असम, मेघालय, त्रिपुरा, मिजोरम राज्यों से होकर गुज़रती है |
2. भारत नेपाल से भी सीमा साझा करता है, जो 1751 किलोमीटर लंबी है उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, बिहार नेपाल के साथ बॉर्डर शेयर करते हैं |
3. श्रीलंका के साथ भारत समुद्री सीमा शेयर करता है ये तमिलनाडु से होकर गुज़रती है |
4. अंडमान व निकोबार की समुद्री सीमा इंडोनेशिया के साथ भारत शेयर करता है |
5. मालदीव की समुद्री सीमा भारतीय राज्य लक्ष्यद्वीप से होकर गुज़रती है |
6. भूटान के साथ भारत करीब 699 किलोमीटर की सीमा साझा करता है. ये सीमा सिक्किम, पश्चिम बंगाल, असम, अरुणाचल प्रदेश से होकर गुज़रती है |
7. म्यांयामार हमारे साथ लगभग 1643 किलोमीटर की सीमा शेयर करता है. ये अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम राज्य से होकर गुज़रती है |

भारत की अंतर्राष्ट्रीय सीमा 11 पड़ोसी देशों :-
इसके कुल 11 पड़ोसी देशों से मिलती है। भारत की स्थल सीमा से लगे 4 देश चीन, नेपाल, भूटान व अफगानिस्तान हैं। भारत की जलीय / समुद्री सीमा से लगे 7 पड़ोसी देश – पाकिस्तान, बांग्लादेश, म्यांमार, थाईलैंड, इंडोनेशिया, श्रीलंका, मालदीव हैं। भारत के पड़ोसी देशों में से 3 देश यथा – पाकिस्तान, बांग्लादेश व म्यांमार ऐसे भी हैं जिनकी स्थल और समुद्री दोनों सीमाएं भारत से मिलती हैं।

भारत की अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं की लंबाई :-
देश सीमा की लंबाई
बांग्लादेश 4096 किमी.
चीन 3488 किमी.
पाक 2910 या 3323
नेपाल 1751 किमी.
म्यांमार 1643 किमी.
भूटान 699 किमी.
अफगानिस्तान 106 किमी.
श्रीलंका 100 मीटर

भारतीय सीमा के कुछ मुख्य तथ्य :-
अक्षांश: भारतीय मुख्य भूमि 8 ° 4 37 और 37 ° 6। उत्तर के बीच स्थित है।
देशांतर: 68 ° 7 ′ और 97 ° 25 25 पूर्व के बीच
भारत की दूरी –
उत्तर से दक्षिण: 3,214 किमी
पूर्व से पश्चिम तक: 2,933 किमी

भारत की जल सीमा :-
भारतीय तटरेखा की कुल लंबाई (मुख्य भूमि के तट, लक्षद्वीप द्वीप समूह, और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह सहित) 7,517 किलोमीटर है।

भारत की नियंत्रण रेखा (एलओसी) :-
जम्मू और कश्मीर में भारत और पाकिस्तान को अलग करने वाली सीमा। 1948 में भारत-पाक युद्ध के बाद यह युद्ध विराम रेखा पर सहमत हुआ। यह एक अनौपचारिक नियंत्रण रेखा है।

भारत की जलडमरूमध्य :-
यह एक जलडमरूमध्य है जो तमिलनाडु को श्रीलंका के मन्नार जिले से अलग करता है। यह एक जल सीमा है जो भारत और श्रीलंका को विभाजित करती है

भारत-भूटान बॉर्डर :-
भारत-भूटान के बीच 699 किमी का बॉर्डर है, लेकिन इन दोनों देशों के बीच सिर्फ एक ही एंट्री प्वाइंट है। ये भारत के वेस्ट बंगाल के जयगांव से और साउथ-वेस्ट भूटान के फुंटशोलिंग से होकर जाता है।

भारत बांग्लादेश की अंतराष्ट्रीय सीमा :-
बांग्लादेश का अंतराष्ट्रीय सीमा भारत के साथ स्थलीय है, जो भारत के साथ सबसे अधिक स्थलीय सीमा बनाती है, जिसका कारण है बांग्लादेश का तीन ओर से भारत से घिरा होना। बांग्लादेश का भारत के साथ कुल सीमा रेखा की लंबाई 4096 km है।

भारत की सीमाओं का विस्तार एवं पडोसी देश :-
भारत की सीमाएं चीन-तिब्बत, नेपाल, भूटान, पाकिस्तान, बांग्लादेश तथा म्यांमार से मिलती हैं। भारत की सीमाएं प्रायः प्राकृतिक हैं किंतु कुछ सीमाएं कृत्रिम भी हैं। उत्तर में हिमालय, दक्षिण-पश्चिम में अरब सागर, दक्षिण-पूर्व में बंगाल की खाड़ी तथा दक्षिण में हिन्द महासागर भारत की प्राकृतिक सीमाएं निर्मित करते हैं। भारत एवं चीन के मध्य की सीमा मैकमोहन रेखा कहलाती है। इसका निर्धारण 1914 में किया गया था। भारत-चीन की सीमा लगभग 3840 कि.मी. लम्बी है। इसी तरह भारत-पाकिस्तान सीमा कश्मीर, पंजाब, पश्चिमी राजस्थान तथा कच्छ प्रदेश तक फैली हुई है। भारत के सीमावर्ती राज्य राजस्थान व पाकिस्तान के मध्य 1120 कि.मी. लम्बी सीमा रेखा है।

भारतीय सीमा सम्बन्धी प्रमुख तथ्य :-
1. भारत वर्ष उत्तर में कश्मीर से लेकर दक्षिण में कन्याकुमारी तक 3214 किमी. तथा पश्चिम में सौराष्ट्र से लेकर पूर्व में अरुणाचल प्रदेश तक 2933 किमी. तक फैला हुआ है। इसकी आकृति लगभग चतुष्कोणीय है।
2. भारत की स्थल सीमा की कुल लम्बाई 15200 किमी. है।
3. भारत की समुद्री सीमा की कुल लम्बाई 6100 कि.मी. है किंतु लक्षद्वीप तथा अंडमान निकोबार द्वीप समूह की लम्बाई भी इसमें शामिल की जाती है तो यह 7516.6 कि.मी. हो जाती है।
4. भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमा पूर्व में बांग्लादेश के साथ 4096 कि.मी., उत्तर में चीन के साथ 3917 कि.मी., अफगानिस्तान के साथ 80 किमी. तथा उत्तर-पश्चिम में पाकिस्तान के साथ 3310 कि.मी. लम्बी है।
5. भारत की नेपाल के साथ 1752 कि.मी., म्यांमार के साथ 1458 कि.मी. तथा भूटान के साथ 587 किमी. लम्बी अंतरराष्ट्रीय सीमा है।
भारत का पड़ोसी देश श्रीलंका पाक जलडमरूमध्य द्वारा सीमा से पृथक् होता है। भारत व बांग्लादेश के मध्य संपूर्ण सीमा रेखा पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, असम व मेघालय के स्थलीय भागों को स्पर्श करती है। भारत व म्यांमार के मध्य हिमालय से निकलने वाली उत्तर-पूर्वी श्रेणियां-लुशाई, नागा, अराकनयोम एवं पटकोई स्थलीय सीमा का निर्माण करती हैं। ये श्रेणियां भारत को इरावदी नदी की घाटी द्वारा म्यांमार से अलग करती हैं।

भारत लक्षद्वीप सामुद्रिक देश सीमा :-
लक्षद्वीप समूह के दक्षिण में बसा हुआ सामुद्रिक देश मालदीव हमारा एक अन्य पड़ोसी देश है। इसी तरह बंगाल की खाड़ी के सीमान्त से संबद्ध देशों में थाइलैंड, मलेशिया, इण्डोनेशिया, लाओस, आदि उल्लेखनीय हैं। भारत के पश्चिम में पाकिस्तान, अफगानिस्तान, ईरान, इराक तथा अरब राष्ट्र हैं। सागरपारीय राष्ट्रों में सूडान, इथियोपिया, सोमालिया, तंजानिया तथा कीनिया हैं। एशिया के पांच राष्ट्र-चीन, उज्बेकिस्तान, अफगानिस्तान, भारत एवं पाकिस्तान उत्तर भारत के त्रिकोण पर एक साथ स्पर्श करते हैं। इसी प्रकार भारत के सुदूर पूर्वोत्तर भाग में भारत, चीन व म्यांमार त्रिमूर्ति का निर्माण करते हैं।

भारत चीन का सीमा विवाद :-
भारत और चीन का सीमा विवाद दशकों पुराना है. तिब्बत को चीन में मिलाये जाने के बाद यह विवाद भारत और चीन का विवाद बन गया एक नजर विवाद के अहम बिंदुओं पर
लंबा विवाद –
तकरीबन 3500 किलोमीटर की साझी सीमा को लेकर दोनों देशों ने 1962 में जंग भी लड़ी लेकिन विवादों का निपटारा ना हो सका. दुर्गम इलाका, कच्चा पक्का सर्वेक्षण और ब्रिटिश साम्राज्यवादी नक्शे ने इस विवाद को और बढ़ा दिया दुनिया की दो आर्थिक महाशक्तियों के बीच सीमा पर तनाव उनके पड़ोसियों और दुनिया के लिए भी चिंता का कारण है |

Indian History Notes

Leave a Comment

error: Content is protected !!