भारत के प्रमुख खनिज संसाधन

भारत के प्रमुख खनिज उत्पादक राज्य , भारत में खनिज संसाधनों का वितरण, भारत के खनिज उत्पादक राज्य , भारत में खनिज , भारत के प्रमुख खनिज उत्पादक राज्य , खनिज संसाधन की परिभाषा, भारत के खनिज संसाधन , भारत में लगभग कितने खनिज पाए जाते हैं, भारत के प्रमुख खनिज संसाधन , खनिज संसाधन में भारत का कौन सा क्षेत्र धनी है , खनिज संसाधन क्या है , भारत में लगभग कितने खनिज पाए जाते हैं , खनिज तथा ऊर्जा संसाधन क्या है , भारत के खनिज संसाधन PDF , भारत के खनिज उत्पादक राज्य PDF , भारत के खनिज संसाधन ट्रिक , भारत के प्रमुख खनिज उत्पादक राज्य 2020 , खनिज उत्पादन में प्रथम राज्य 2020 , भारत खनिज सम्पदा , खनिज संसाधन पर निबंध , खनिज के प्रकार ,

भारत के प्रमुख खनिज संसाधन :-  हमने भूमि, मृदा, जल एवं वन जैसे संसाधनों के बारे में पढ़ा। इस पाठ में हम दो महत्त्वपूर्ण संसाधनों के बारे में अध्ययन करेंगे। ये संसाधन हैं- खनिज तथा ऊर्जा। पृथ्वी पर जैसे जल और थल अति महत्त्वपूर्ण खजाने हैं ठीक उतने ही महत्त्वपूर्ण खनिज संसाधन भी हैं। खनिज संसाधन के बिना हम अपने देश के औद्योगिक क्रियाकलापों को गति, युक्ति एवं दिशा नहीं दे सकते। इसलिये देश का आर्थिक विकास भी अवरुद्ध हो सकता है।
विश्व के बहुत से देशों में खनिज सम्पदा राष्ट्रीय आय के प्रमुख स्रोत बने हुए हैं। किसी भी देश की आर्थिक, सामाजिक उन्नति उसके अपने प्राकृतिक संसाधनों के युक्ति संगत उपयोग करने की क्षमता पर निर्भर करता है। खनिजों की सबसे महत्त्वपूर्ण विशेषता यह है कि एक बार उपयोग में आने के पश्चात ये लगभग समाप्त हो जाते हैं। इसका सम्बन्ध हमारे वर्तमान एवं भविष्य के कल्याण से है। चूँकि खनिज ऐसे क्षयशील संसाधन हैं जिन्हें दोबारा नवीनीकृत नहीं किया जा सकता अतः इनके संरक्षण की आवश्यकता बहुत ज्यादा है।
रोमन साम्राज्य के पतन के अनेकों कारणों में से एक कारण वहाँ के खनिज-निक्षेप का क्षीण होना तथा मृदा अपरदन था। विकसित देशों में विगत कुछ वर्षों पूर्व जो खदानों वाले शहर या कस्बे थे वे आज वीरान, उजाड़ तथा सभ्यता से परित्यक्त इसलिये हो गए हैं क्योंकि खदानों से खनिजों का सम्पूर्ण दोहन हो चुका है तथा आकर्षण समाप्त हो चुका है। कनाडा के इलियट झील के आस-पास के नगर ”आणविक-युग के प्रथम वीरान, उजाड़, परित्यक्त नगरों” में बदल गए।
इसका कारण इन नगरों से यूरेनियम खनिज जिसकी खुदाई एवं संग्रहण करने के लिये 25,000 आबादी वाली मानव-बस्ती बसाई गई थी (1950-58), जैसे ही अमेरिका को वैकल्पिक आण्विक खनिज (यूरेनियम) के भण्डार मिले, बस्ती की जनसंख्या 5000 हो गई। इस प्रकार की मानवीय क्रियाकलापों से एक आर्थिक-सामाजिक सलाह मिलती है कि खनिज एवं ऊर्जा पर आधारित चमक-दमक की सम्पन्नता एवं सभ्यता को स्थाई नहीं मानना चाहिये।

यह भी पढ़े : राजस्थान के भूभौतिक प्रदेश 

के खनिज संसाधन का उद्देश्य :-
* देश के खनिज संसाधनों की स्थिति बता सकेंगे
* आर्थिक विकास में खनिज तथा ऊर्जा संसाधनों के महत्त्व को समझा सकेंगे
* धात्विक एवं अधात्विक खनिज,
* परम्परागत और गैर-परम्परागत ऊर्जा के संसाधनों के बीच अंतर कर सकेंगे
* भारत के मानचित्र में उन भिन्न-भिन्न क्षेत्रों को दर्शा सकेंगे जहाँ खनिज एवं ऊर्जा संसाधन उपलब्ध हैं
* खनन/शोधन एवं जीवाश्म ईंधन के पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रभाव को जान सकेंगे
* खनिज एवं ऊर्जा संसाधनों के संरक्षण हेतु सुझाव दे सकेंगे।

भारत में कितने प्रकार के खनिज संसाधन है :-
भारत प्रचुर खनिज-निधि से सम्पन्न है। हमारे देश में 100 से अधिक खनिजों के प्रकार मिलते हैं। इनमें से 30 खनिज पदार्थ ऐसे हैं जिनका आर्थिक महत्त्व बहुत अधिक है। उदाहरणस्वरूप कोयला, लोहा, मैगनीज़, बॉक्साइट, अभ्रक इत्यादि। दूसरे खनिज जैसे फेल्सपार, क्लोराइड, चूनापत्थर, डोलोमाइट, जिप्सम इत्यादि के मामले में भारत में इनकी स्थिति संतोषप्रद है। परन्तु पेट्रोलियम तथा अन्य अलौह धातु के अयस्क जैसे ताँबा, जस्ता, टिन, ग्रेफाइट इत्यादि में भारत में इनकी स्थिति संतोषप्रद नहीं है। अलौह खनिज वे हैं जिनमें लौह तत्व नहीं होता है। हमारे देश में इन खनिजों की आन्तरिक माँगों की आपूर्ति बाहर के देशों से आयात करके की जाती है, जैसा कि आपने इतिहास में पढ़ा होगा कि अंग्रेजों की हुकूमत के दौरान भारत के अधिकांश खनिज निर्यात कर दिये जाते थे। किन्तु स्वतंत्रता के बाद भी भारत से खनिज पदार्थों का निर्यात हो रहा है, परन्तु खनिजों का दोहन देश की औद्योगिक इकाइयों द्वारा खपत की माँग के अनुरूप भी बढ़ा है। परिणामस्वरूप भारत में खनिजों के कुल दोहन का मूल्य 2004-2005 में लगभग 744 अरब रुपयों तक पहुँच गया जो वर्ष 1950-51 में मात्र 89.20 करोड़ रुपये ही था।
इसका अर्थ यह हुआ कि पिछले 50 वर्षों में 834 गुना वृद्धि हुई। खनिज पदार्थों को अलग-अलग करके देखें कि उपरोक्त मूल्यों में किसका कितना योगदान है तो स्पष्ट हो जाता है कि ईंधन के रूप में प्रयुक्त खनिज (जैसे कोयला, पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस और लिग्नाइट) का योगदान 77% था, धात्विक खनिजों का 10% तथा अधात्विक खनिजों का योगदान 8% था। धात्विक खनिज के अयस्क लौह अयस्क, क्रोमाइट, मैगनीज, जिंक, बॉक्साइट, ताम्र-अयस्क, स्वर्ण अयस्क हैं जबकि अधात्विक अयस्कों में चूना-पत्थर, फास्फोराइट, डोलोमाइट, केवोलीन मिट्टी, मेग्नेसाइट, बेराइट और जिप्सम इत्यादि हैं।
यदि खनिजों के सकल मूल्य में इनका अलग-अलग योगदान देखें तो कोयला (36.65%), पेट्रोलियम (25.48%), प्राकृतिक गैस (12.02%), लौह अयस्क (7.2%), लिग्नाइट (2.15%), चूनापत्थर (2.15%) तथा क्रोमाइट (1.1%) आदि कुछ ऐसे खनिज हैं, जिनका अंश 1 प्रतिशत से अधिक है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!