Arjun Puraskar Kis Kshetra Mein Diya Jata Hai

arjun puraskar kis kshetra mein diya jata hai , अर्जुन पुरस्कार लिस्ट 1961 , अर्जुन पुरस्कार किस क्षेत्र में दिया जाता है , arjun puraskar kis kshetra mein uthkrushta ke liye pradan kiye jaate hain , arjun puraskar kis kshetra mein , arjun award kis kshetra mein diya jata hai , अर्जुन पुरस्कार की शुरुआत किस वर्ष हुई , अर्जुन पुरस्कार किसे दिया जाता है , arjun puraskar ki sthapna kab hui thi , arjun puraskar ki sthapna , अर्जुन पुरस्कार किस क्षेत्र में उत्कृष्टता के लिए प्रदान किए जाते है , अर्जुन पुरस्कार कब प्रारंभ हुआ , अर्जुन अवार्ड किस क्षेत्र में दिया जाता है , अर्जुन पुरस्कार किस क्षेत्र में उत्कृष्टता के लिए प्रदान किया जाता है ,

Point :- अर्जुन पुरस्कार

अर्जुन पुरस्कार क्या है , अर्जुन पुरस्कार किस क्षेत्र में दिया जाता है , अर्जुन पुरस्कार का इतिहास , अर्जुन पुरस्कार की राशि , अर्जुन पुरस्कार के विजेता , अर्जुन पुरस्कार में क्या दिया जाता है , अर्जुन उपाधि देने का उद्देश्य , अर्जुन उपाधि विजेता की लिस्ट ,

अर्जुन उपाधि  क्या है :-
अर्जुन पुरस्कार खिलाड़ियों को दिये जाने वाला एक पुरस्कार है जो भारत सरकार द्वारा खेल के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिये दिया जाता है। इस पुरस्कार का प्रारम्भ 1961 में हुआ था। शुरुआत में पुरस्कार स्वरूप पाँच लाख रुपये की राशि, अर्जुन की कांस्य प्रतिमा और एक प्रशस्ति पत्र दिया जाता था। लेकिन पिछले कुछ वर्षों में इस अवॉर्ड का दायरा बढ़ गया है। ये पिछले तीन वर्षों में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लगातार अच्छा प्रदर्शन करने वाले और नेतृत्व, खेल भावना और अनुशासन जैसे गुणों का प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को दिया जाता है। तो आइये आपको बताते हैं अब तक किस- किस को मिला है अर्जुन अवार्ड।

अर्जुन उपाधि किस क्षेत्र में दिया जाता है :-
अर्जुन अवार्ड Arjuna Award भारत सरकार के युवा मामले और खेल मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय खेलो में उत्कृष्ट उपलब्धि के लिए दिया जाता है | 1961 में स्थापित इस अवार्ड में अर्जुन की कांस्य मूर्ति , एक scroll और 5 लाख रूपये नकद पुरुस्कार दिया जाता है | पिछले कुछ वर्षों में इस अवार्ड का दायरा बढ़ गया है और खेल व्यक्तियों की एक बड़ी संख्या को ये पुरुस्कार दिया जाने लगा है | इस अवार्ड की केटेगरी में बाद में स्वदेशी खेल और शारीरिक रूप से विकलांग श्रेणी को बहे जोड़ दिया गया |सरकार ने अर्जुन अवार्ड Arjuna Award की योजना में अभी हाल ही में बदलाव किये जिसके तहत इस अवार्ड की योग्यता के लिए , ना केवल पिछले तीन सालो से लगातार अच्छा अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शन बल्कि नेतृत्व, साहस और अनुशासन की भावना के गुणों का होना भी जरुरी है |
1962 में, मीना शाह (बैडमिंटन) इस पुरस्कार को पाने वाली पहली महिला थीं।
1961 में, कृष्णदास तीरंदाजी के क्षेत्र में अर्जुन पुरस्कार पाने वाले पहले प्राप्तकर्ता थे।

अर्जुन उपाधि का इतिहास :-
राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों के लिए गठित 12 सदस्यीय चयन समिति ने 17 अगस्त 2019 को खेल पुरस्कारों की घोषणा की. महिला एथलीट दीपा मलिक तथा पहलवान बजरंग पुनिया को खेल का सर्वोच्च पुरस्कार राजीव गांधी खेल रत्न दिए जाने की घोषणा हुई है राष्‍ट्रीय खेल पुरस्‍कार प्रति वर्ष खेलों में बेहतरीन प्रदर्शन को पहचानने और सम्‍मानित करने के लिए प्रदान किया जाता है |
इस वर्ष इन पुरस्‍कारों के लिए बड़ी संख्‍या में नामांकन प्राप्‍त हुए थे, जिन पर पूर्व ओलंपिक खिलाडि़यों, अर्जुन पुरस्‍कार प्राप्‍त खिलाडि़यों, द्रोणाचार्य पुरस्‍कार प्राप्‍त कोचों, ध्‍यानचंद पुरस्‍कार प्राप्‍त व्‍यक्तियों, खेल पत्रकारों/जानकारों/कमेंटेटरों और खेल प्रशासनिक अधिकारियों की चयन समिति ने विचार किया था. यह पुरस्‍कार समिति की सिफारिशों के आधार पर और उचित जांच के बाद सरकार ने निम्‍नलिखित खिलाडि़यों/कोचों/संगठनों को प्रदान करती है |

अर्जुन उपाधि की राशि :-
यह पुरस्कार एक ऐसे खिलाड़ी को दिया जाता है जिसने लगातार चार वर्षो तक उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है सभी अर्जुन पुरस्कार विजेताओं को ₹500000 का नकद पुरस्कार और एक प्रमाणपत्र मिलता है

अर्जुन उपाधि के विजेता :-
खेल के क्षेत्र में बेहतरीन योगदान के लिए जिन 19 खिलाड़ियों को अर्जुन पुरस्कार से समान्नित किया जाने वाला है, उनके नामों की फ़ेहरिस्त सामने आ चुकी है। शनिवार को 17 खेलों में अपना योगदान देने वाले इन खिलाड़ियों के नामों पर अंतिम मुहर लग गई।
इस फ़ेहरिस्त में अर्जुन पुरस्कार पाने वालों के अलावा राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार में भी एक और नाम जोड़ा गया है और वह हैं पैरालंपिक्स पदक विजेता दीपा मलिक। इस साल राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार जिन दो खिलाड़ियों को दिया जाएगा वह कुश्ती से बजरंग पूनिया और पैरालंपिक्स से दीपा मलिक हैं। इस तरह दीपा मलिक पहली भारतीय पैरालंपिक महिला होंगी जिन्हें खेल रत्न से नवाज़ा जाने वाला है।
तेजिंदर पाल सिंह, स्वपना बर्मन और मोहम्मद अनस यहिया को जहां एथलेटिक्स से चयनित किया गया है तो चिंगलेनसेना और अजय ठाकुर को क्रमश: हॉकी और कबड्डी के क्षेत्र में बेहतरीन योगदान देने का इनाम मिला है। मोटर स्पोर्ट्स से गौरव सिंह गिल के तौर पर पहली बार किसी को अर्जुन पुरस्कार मिलने जा रहा है। क्रिकेट से इस बार बीसीसीआई ने तेज़ गेंदबाज़ मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह, ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा और महिला क्रिकेट की लेग स्पिनर पूनम यादव के नामों सिफ़ारिश की थी। जिसके बाद रविंद्र जडेजा और पूनम यादव के नामों पर मुहर लग गई है।

अर्जुन उपाधि में क्या दिया जाता है :-
केंद्रीय खेल मंत्री किरन रिजिजू ने मंगलवार को स्टार महिला क्रिकेटर स्मृति मंधाना और टेनिस खिलाड़ी रोहन बोपन्ना को अर्जुन अवॉर्ड से सम्मानित किया। 1961 में इस अवॉर्ड को पहले बार दिया गया था। इस पुरस्कार में 5,00,000 रुपये कैश दिया जाता है साथ ही अर्जुन की प्रतीकात्मक ट्रॉफी और सर्टिफिकेट दिया जाता है।
स्मृति मंधाना ने महिला क्रिकेट टीम के लिए कई यादगार पारियां खेली हैं। महिला हो या पुरुष वो टी-20 इंटरनेशनल में सबसे कम उम्र की भारतीय कप्तान हैं। मंधाना ने 22 साल 229 दिन की उम्र में टी-20 इंटरनेशनल में टीम इंडिया की कप्तानी संभाली। वो इसी साल फरवरी में दुनिया की नंबर 1 वनडे बल्लेबाज बनी थीं।

अर्जुन उपाधि देने का उद्देश्य :-
भारतसरकार द्वारा वर्ष के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को अर्जुन पुरस्कार’ से अलंकृत करने की पृथा का शुभारम्भ 1961 में किया गया था और ये पिछले तीन वर्षों में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लगातार अच्छा प्रदर्शन करने वाले और नेतृत्व, खेल भावना और अनुशासन जैसे गुणों का प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को दिया जाता है।
इन पुरस्कारों का उद्देश्य खिलाड़ियों को पुरस्कृत कर उन्हें खेलकूद के प्रति और उत्साहित करना था।
अर्जुन पुरस्कार में पुरस्कार स्वरूप पाँच लाख रुपये नकद और अर्जुन की कांस्य प्रतिमा, पारंपरिक पोशाक और एक ‘प्रशस्ति पत्र’ दिया जाता है।
1961 में 19 खिलाड़ियों को, 1962 में 9 खिलाड़ियों को और उसके बाद तीन वर्षों तक 7-7 खिलाड़ियों को अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
1965 के भारतीय एवरेस्ट विजेता दल को भी अर्जुन पुरस्कार से अलंकृत किया गया।
1976 तक 224 खिलाड़ी इस पुरस्कार से सम्मानित हो चुके हैं।
हर साल अधिकतम 15 अर्जुन पुरस्कार दिये जाते हैं, लेकिन अर्जुन पुरस्कार 2010 के लिए कुल 19 खिलाड़ियों को यह सम्मान दिया गया।

अर्जुन उपाधि विजेता की लिस्ट :-
यह पुरस्‍कार लगातार चार वर्ष तक बेहतरीन प्रदर्शन के लिए दिया जाता है. इस पुरस्कार की स्थापना वर्ष 1961 में हुआ था पुरस्कार के रूप में पाँच लाख रुपये की राशि, अर्जुन की कांस्य प्रतिमा और एक प्रशस्ति पत्र दिया जाता है |
पुरस्‍कृत का नाम
तेजिंदर पाल सिंह तूर
मोहम्मन अनस
स्वप्ना बर्मन
एस भास्करन
सोनिया लाठेर
रविंद्र जडेजा
पूनम यादव
चिंगलेनसना सिंह कांगुजाम
अजय ठाकुर
गौरव सिंह गिल
अंजुम मुदगिल
हरमीत देसाई
पूजा ढांडा
फवाद मिर्जा
गुरप्रीत सिंह संधू
बी साई प्रणीत
सिमरन सिंह शेरगिल
प्रमोद भगत
सुरेंद्र सिंह गुज्जर

Award List Qustion Answer

Leave a Comment

error: Content is protected !!