डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम क्या है

डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम के लाभ , डेटाबेस क्या है हिंदी में , डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम के प्रकार , डेटाबेस प्रबन्धन प्रणाली , डेटाबेस की विशेषताएं , डेटाबेस के लाभ , डेटाबेस प्रबंधन प्रणाली के फायदे , रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम क्या है समझाइए ,

डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम क्या है

डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम क्या है :- डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम को समझने से पहले आपको डेटाबेस के बारे में जानना होगा इसके लिए आप हमारी पोस्ट “डेटाबेस क्या होता है” पढ़ सकते हैं, डेटाबेस काफी सारी इनफार्मेशन को एक संगठित तरीके से रखने को कहते हैं, डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम काफी सारी इनफार्मेशन को एक जगह सिस्टेमेटिक तरीके से गठन करके रखने वाले सॉफ्टवेयर को कहते हैं ताकि कभी भी डाटा की जरुरत पड़ने पर डाटा को आसानी से निकाला जा सके साधारण भाषा में समझे तो डेटाबेस को प्रबंधित (Manage) करने के लिए जिस सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है, उसे डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम कहा जाता है।

यह भी पढ़े :
मौर्य साम्राज्य से संबंधित प्रश्न

डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS) के कार्य :-
1) डाटा को डेटाबेस मॉडल के अनुसार बनाना।
2) डाटा को फीड करके डेटाबेस फाइल में रखना।
3) किसी डाटा के मांगे जाने पर उसे निकाल कर देना।
4) बदलाव का निवेदन आने पर डाटा में बदलाव करना।
5) पहले से बताये गए प्रतिबंध का पालन करना।

डेटाबेस नियंत्रण करना :- आसान भाषा में समझे तो जो भी सॉफ्टवेयर हम आम जीवन में उपयोग करते है सभी सॉफ्टवेयर में जो भी डाटा हम देख पाते हैं वो डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम के माध्यम से ही आता है। उदाहरण के तौर पर किसी टिकट की बुकिंग से लेकर कैंसिल करने तक या उड़ान भरने तक साडी सुचना डेटाबेस के अंदर ही जमा होती है जिसे किसी भी समय आसानी से डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम के माध्यम से उपयोग किया जा सकता है। इसी तरह से कॉलेज के डेटाबेस में किसी स्टूडेंट की जन्मतिथि में बदलाव करना, नया दाखिला करना, कॉलेज में चल रही गतिविधियों की समय समय पर जानकारी एकत्रित करना इत्यादि सारे कार्य डेटाबेस में जमा कर सकते हैं और बाद में उपयोग के लिए निकाले जा सकते हैं।
डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम क्या है
DBMS के फायदे :- डाटा एक जगह स्टोर हो जाता है, डाटा में बदलाव पर एक ही जगह बदलने से सभी जगह अपने आप बदला हुआ डाटा ही मिलेगा, कुछ भी ढूंढ़ने में आसान है।
कार्य करने की गति बहुत फ़ास्ट हो जाती है, सुरक्षा के लिहाज से यूजर के अनुसार प्रतिबन्ध भी लगाए जा सकते हैं।

DBMS Software के कुछ example :-
1) MySQL :– MySQL की शुरुवात 1995 में Oracle के द्वारा की गई थी. यह एक open-source Relational database management system (RDBMS) है. यह structure query language (SQL) पर आधारित है. यह लगभग सभी operating system को support करता है. MySQL अपनी उच्च दक्षिता, विश्वनीयता और लागत के कारण बहुत प्रशिद्ध है. इसमे Linux, PHP और Apache के साथ LAMP technology भी है |
2) MS Fox Pro :- Fox Pro एक dbms है, जिसको fox software ने शुरू किया था लेकिन अभी यह microsoft के संरक्षण में है. डेटाबेस प्रबंधन प्रणाली होने के साथ ही यह text संबंधित oriented programming language भी है Fox pro एक शक्तिशाली database managment system होने के साथ ही Relational database managment system (RDBMS) भी है. क्योंकि यह कई DBF files के बीच कई सम्बन्धों का व्यापक समर्थन करता है |
3) Microsoft Access :- MS Access माइक्रोसॉफ्ट द्वारा संचालित डेटाबेस प्रबंधन प्रणाली (DBMS) है, जो Relational microsoft jet database engine को एक graphical user interface और software development tool के साथ जोड़ती है. यह व्यवसायिक और उच्च संस्करणों में शामिल अनुप्रोयोगों के माइक्रोसॉफ्ट कार्यालय सूट का सदस्य है. इसका उपयोग छोटे और बड़े दोनों database development के लिये होता है
4) Oracle :- Oracle database एक Relational dbms है. इसको Oracle corporation द्वारा maintain किया जाता है. यह पहला डेटाबेस है, जिसे enterprises grid computing के लिए design किया गया है. यह RDBMS की fourth generation है इसका उपयोग ज्यादातर बड़ी कंपनियां करती है. जिन्हें बड़ी मात्रा में data manage करने की आवश्यकता होती है |

5) SQL Server :- SQL सर्वर क्या है Microsoft द्वारा विकसित किया गया SQL server, RDBMS है, जो MS-Windoes के लिये computer database बनाने में उपयोग होता है. MS SQL server डेटाबेस बनाता है, जिसे workstation और internet के द्वारा access किया जा सकता है. इसको oracle database और MySQL से compitition करने के लिए बनाया गया था. यह एक पूर्ण विशेषताओं वाला डेटाबेस है.
डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम क्या है
सर्च इंजन क्या है :- सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बने, Software क्या होता है, Types of DBMS in Hindi, डेटाबेस प्रबंधन प्रणाली (dbms) कई प्रकार की होती है. नीचे हम आपके साथ पांच प्रकार के database managment system सांझा कर रहे है |
1) Hierarchical database
2) Relational database
3) Network database
4) Object oriented database
5) Document database
6) Hierarchical Database
एक Hierarchical model में डेटा को tree structure में represent किया जाता है. इसमे हर record के लिये एक single parent और उसके कई child हो सकते है. जैसे एक university का उदाहरण ले तो, उसमे बहुत student पढ़ते है. उनके अलग – अलग subject और classes है. इस स्थिति में university एक parent है तथा विद्यार्थी व अन्य इसके child है. इस प्रकार के model structure दो विभिन्न प्रकार के data के बीच एक से एक और एक से कई सम्बन्धों की अनुमती देते है. इस Hierarchical model की शुरुआत लगभग 1960 के दशक में IBM द्वारा की गई थी |
डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम क्या है
Relational Database :- Relational database कई data sets का एक collective set है. जिसे table, record और column द्वारा दर्शाया जाता है. इस tubular form में प्रत्येक column एक attribute को प्रत्येक row, record को और प्रत्येक field,data value को represent करते है. Relational database का मानक user और application programming interface (API) एक structured query language (SQL) है. SQL का उपयोग RDB से information के लिए interactive queries के लिए और report के लिए data एकत्र करने में किया जाता है यह सबसे लोकप्रिय और ज्यादा इस्तेमाल होने वाला डेटाबेस है. इसका उपयोग हम थोड़े बहुत प्रशिक्षण से भी कर सकते है |

Network Database :- एक Network database वह database model है, जो multiple records को एक ही मालिक से link करने की अनुमति देता है. इस मॉडल को उल्टे पेड़ के structure की तरह भी देखा जाता है नेटवर्क डेटाबेस संस्थाओं के बीच सम्बंध बनाने के लिए एक Network structure का उपयोग करता है. इसका उपयोग मुख्य रूप से digital computer पर किया जाता है. Network database और hierarchical database बिल्कुल समान है. परन्तु hierarchical database की एक node में सिर्फ एक parent हो सकते है वही Network node में कई संस्थाओं के साथ relationship हो सकती है. Network database में child को member और parents को occupier कहा जाता है.

Object Oriented Database :- यह डेटाबेस objects और classes के रूप में data का प्रतिनिधित्व करता है. Object oriented database (OODB) में object को वास्तविक दुनिया की इकाई और class को वस्तुवों का एक collection कहा जाता है. यह object-oriented programming (OOP) के मूल सिद्धांतों का पालन करता है. यह डेटाबेस सिस्टम relational database और अन्य database system के लिये वैकल्पिक है. Object oriented database में information को object के रूप दर्शाया जाता है.

Document Database :- Document database (DDB) एक NoSQL database है. यह data को document के रूप में store करता है. अपनी Document storage और NoSQL गुणों के कारण यह काफी लोकप्रिय हो चुका है. NoSQL data storage दस्तावेजों को store और search करने के लिए faster mechanism प्रदान करता है. डॉक्यूमेंट डेटाबेस data को key value form में store करता है

Components of DBMS :-
डेटाबेस प्रबंधन प्रणाली के पांच मुख्य घटक (components) है
1) Hardware :- हालांकि यह मूल रूप से dbms का घटक नही है, अब क्योंकि data इन्ही computer hardware (hard disk, RAM) में store होता है. तो एक तरह से हार्डवेयर भी इस प्रणाली का हिस्सा हो जाता है जब हम अपने कंप्यूटर पर dbms software, Oracle और MySQL चलाते है, तो हमारे कंप्यूटर की hard disk, RAM, ROM यहां तक कि हमारा keyboard जिससे हम command type करते है, यह सब DBMS hardware का हिस्सा बन जाता है |
2) Software :- DBMS Software सबसे महत्वपूर्ण component है क्योंकि यही हमें data store, access और update करने के लिए interface प्रदान करता है यह वह program है, जो सब कुछ नियंत्रित करता है. यह Access language को समझने में सक्षम होता है और डेटाबेस में उन्हें निष्पादित करने के लिये वास्तविक डेटाबेस कमांड्स में इसकी व्याख्या करता है |
3) Data :- Data का मतलब है, जो material आप store करने वाले है. जिसके लिये dbms design किया गया है यह डेटा text document, video clip, image या अन्य प्रकार का data हो सकता है. DBMS बनाने का कारण ही data store करना और data utilise करना था |
4) Procedures :- Procedures का हिंदी अर्थ है, प्रक्रियाएं. इन प्रक्रियाओं के अंतर्गत DBMS Software को setup, install, login & logout और backup लेना इत्यादि आते है.
5) Database Access Language :- DBAL एक सरल भाषा है, जिसके द्वारा हम commands को लिखते है. इन्ही कमांड का इस्तेमाल डेटाबेस में data को store, access, delete और update करने में किया जाता है. एक उपयोगकर्ता database access language में command लिख सकता है और इसे निष्पादन के लिए dbms में apply कर सकता है. जिसके बाद dbms द्वारा डेटा को translate और execute किया जाता है.
6) User :- इसके अंतर्गत तीन प्रकार के users आते है. पहला Database administrator या DBA जो database managment system को manage करता है और इसकी security का ख्याल भी रखता है. दूसरा programmer जो dbms के parts को develop और design करता है. तीसरा End user जो data को store, retrieve, update और delete करने का काम करते है |

Python language क्या है :- कृतिम बुद्धिमत्ता (Artificial Intelligence) क्या होती है Computer virus क्या होता है, Database की Importance क्या है, डेटाबेस महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसके द्वारा ही data सही और व्यवस्थित तरीकें से manage हो पाता है. इसके साथ यह user को कई कार्य करने की आज्ञा भी प्रदान करता है Database managment system (DBMS) एक एकल software application के भीतर बड़ी मात्रा में information को manage और organize कर सकता है. जिसके कारण व्यवसाय संचालन की efficiency बढ़ जाती है और समय लागत कम हो जाती है, इसके साथ ही डेटाबेस प्रबंधन प्रणाली ने business और बड़ी organization को काफी फायदा पहुचाया है क्योंकि वे कई प्रकार के data को store करने के लिए इसका प्रयोग करते है आज हम इस प्रणाली का प्रयोग employee record, accounting, library books, student information, project management और inventory इत्यादि प्रकार के data को manage करने लिए करते है
जब हम इस तरह के कार्य को खुद से manually करते है, तो यह डेटाबेस के मुकाबले कहि अधिक समय लेता है. बल्कि एक बार record बना लिया फिर आप उसमे बदलाव भी आसानी से नही कर सकते और इसे हर किसी के द्वारा access भी नही किया जा सकता इसके विपरित डेटाबेस में स्टोर डेटा कहि भी दूसरे उयोगकर्ता तक पहुँच सकता है तो कुल मिलाकर आज के दौर में डेटाबेस बहुत important है, इसके बिना data management बहुत मुश्किल और समय लेने वाला कार्य है

Computer GK MCQ

Leave a Comment

error: Content is protected !!