भारत के राज्यो के प्रमुख उत्पादन

फसल उत्पादन में प्रथम राज्य , भारत में फसल उत्पादन में प्रथम राज्य , फसल उत्पादन में प्रथम राज्य 2021 , फसल उत्पादन में प्रथम राज्य 2021 , सोयाबीन उत्पादक राज्य , भारत की प्रमुख फसलें एवं उत्पादक राज्य 2021 , भारत में चावल उत्पादक राज्य , भारत की प्रमुख खाद्य फसल ,भारत के राज्यो के प्रमुख उत्पादन ,

भारत के राज्यो के प्रमुख उत्पादन

भारतीय कृषि :-
भारत को हम हमेशा से ही एक कृषि प्रधान देश के रूप में जानते हैं। इसका कारण इस देश की कृषि पर निर्भरता हैं। यहां के भिन्न भिन्न राज्यों में भिन्न भिन्न फसलों की खेती होती है। जिसका कारण भारत की भिन्न राज्यों में जलवायु में असमानता हैं। अत यहां के हर एक राज्य की कुछ प्रमुख फसलें हैं जिनको जानना हमारे सामान्य ज्ञान के दृष्टिकोण से बहुत आवश्यक हैं।
भारत की सर्वाधिक एकड़ भूमि में धान की फसल बोयीं जाती हैं। यही वजह है कि चावल भारत की प्रमुख खाद्य फसल हैं। जिसका उत्पादन सबसे ज्यादा भारत के पश्चिम बंगाल राज्य में होता हैं। भारत विश्व का 21.7 प्रतिशत चावल का उत्पादन करता हैं। भारत के राज्यो के प्रमुख उत्पादन ,

यह भी पढ़े :
भारतीय संसद

भारत के सकल घरेलू उत्पाद :-
भारत में कृषि सबसे बड़ी आजीविका प्रदाता है, साथ ही भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में कृषि का महत्वपूर्ण योगदान है। 2011 की जनगणना के अनुसार देश की आबादी का लगभग 55 प्रतिशत कृषि और इससे जुडे गतिविधियों में लगा है और देश के सकल मूल्य संवर्धनविकाश में इसकी हिस्सेदारी 17.4 प्रतिशत है। कृषि क्षेत्र को प्राथमिकता देते हुए भारत सरकार ने इसके सतत हेतु कई कदम उठाए हैं।
इस लेख में हम “प्रमुख भारतीय फसलों और उनके उत्पादक राज्यों की सूची” दे रहे हैं जो UPSC-prelims, SSC, State Services, NDA, CDS, और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्र-छात्राओं के लिए बहुत उपयोगी है।भारत के राज्यो के प्रमुख उत्पादन ,

भारतीय फसलों और उनके उत्पादक राज्यों की सूची :-
भारत में कृषि सबसे बड़ी आजीविका प्रदाता है, साथ ही भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में कृषि का महत्वपूर्ण योगदान है। इस लेख में हम प्रमुख भारतीय फसलों और उनके उत्पादक राज्यों की सूची दे रहे हैं जो UPSC-prelims, SSC, State Services, NDA, CDS, और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्र-छात्राओं के लिए बहुत उपयोगी है।भारत के राज्यो के प्रमुख उत्पादन ,

प्रमुख भारतीय फसलों और उनके उत्पादक राज्यों की सूची :-
अनाज – गेहूँ – उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा
चावल – पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़ और तमिलनाडु
ग्राम – मध्य प्रदेश और तमिलनाडु
जौ – महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और राजस्थान
बाजरे – महाराष्ट्र, गुजरात और राजस्थान

नकदी फसलें – गन्ना – उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र
पोस्ता – उत्तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश

तिलहन – नारियल – केरल और तमिलनाडु
अलसी का बीज – मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश
मूंगफली – आंध्र प्रदेश, गुजरात और तमिलनाडु
सरसों – राजस्थान और उत्तर प्रदेश
तिल – उत्तर प्रदेश और राजस्थान
सूरजमुखी – महाराष्ट्र और कर्नाटक

रेशेदार फसलें – कपास – महाराष्ट्र और गुजरात
पटसन – पश्चिम बंगाल और बिहार
रेशम – कर्नाटक और केरल
भांग – मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश

बागानी फसलें – कॉफ़ी – कर्नाटक और केरल
रबर – केरल और कर्नाटक
चाय – असम और केरल
तंबाकू – गुजरात, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश

मसाले – मिर्च – केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु
काजू – केरल, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश
अदरक – केरल और उत्तर प्रदेश
हल्दी – आंध्र प्रदेश और ओडिशा
उपरोक्त लेख में हमने प्रमुख भारतीय फसलों और उनके उत्पादक राज्यों की सूची दिया है जिसका प्रयोग विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में अध्ययन सामग्री के रूप में किया जा सकता है।

भारत के प्रमुख फसलें और संबंधित राज्य :-
भारत की विभिन्न फसलें और उनके उत्पादक राज्यों की सूची निम्नलिखित हैं-
जम्मू-कश्मीर केशर
उत्तरप्रदेश गेहूँ गन्ना और आलू
आंध्रप्रदेश तम्बाकू और मिर्च
गुजरात मूँगफ़ली और कपास
असम बांस और चाय
बिहार लीची
पश्चिम-बंगाल धान और जूट
केरल छोटी इलायची और काली मिर्च
सिक्किम बड़ी इलायची
मध्यप्रदेश लहसुन
महाराष्ट्र प्याज और काजू
कर्नाटक कहवा(कॉफ़ी) और रेशम
तमिलनाडु केला और कसावा
राजस्थान दलहन

भारतीय कृषि के रोचक तथ्य :-
कुछ महत्वपूर्ण तथ्य कृषि के क्षेत्र में भारत को अद्वितीय बनाते हैं-
1. भारत के कुल क्षेत्रफल के 51 प्रतिशत भाग पर कृषि होती हैं।
2. भारत की कुल श्रम शक्ति का लगभग 48.9 प्रतिशत भाग कृषि और उससे संबंधित उद्योगों से अपना जीवन चलाते हैं।
3. गेहूँ के उत्पादन में चीन के बाद भारत का विश्व में दूसरा स्थान हैं।
4. आम, केला, चीकू, खट्टे नींबू, काली मिर्च, नारियल, हल्दी, अदरक, काजू के उत्पादन में भारत विश्व में प्रथम स्थान पर हैं।
5. हाल ही में सिक्किम को विश्व का पहला जैविक राज्य घोषित किया गया। सिक्किम विश्व मे जैविक खेती का एक प्रबल उदाहरण बन कर उभरा हैं।

भारतीय कृषि की विभिन्न विधियों के प्रकार :-
भारत में की जाने वाली भिन्न-भिन्न खेती को भिन्न-भिन्न नामो से जानते है। भारत की विभिन्न फसलों के नाम निम्लिखित है:
रेशम कीट पालन सेरीकल्चर
मधुमक्खी पालन एपिकल्चर
मत्स्य पालन पिसीकल्चर
केचुआ पालन वर्मीकल्चर
बागबानी हॉर्टिकल्चर
सब्जियाँ उगाना ओलेरीकल्चर
फलों का उत्पादन पोमोकल्चर
फूलों की खेती फ्लोरीकल्चर

भारतीय कृषि से जुड़ी महत्वपूर्ण क्रांति :-
भारतीय कृषि से जुड़ी महत्वपूर्ण क्रांति के नाम निम्नवत है-
खाद्यान्न उत्पादन हरित क्रांति
दुग्ध उत्पादन श्वेत क्रांति
मत्स्य उत्पादन नीली क्रांति
उर्वरक उत्पादन भूरी क्रांति
तिलहन उत्पादन पीली क्रांति
टमाटर/मांस उत्पादन लाल क्रांति
मसाला उत्पादन बादामी क्रांति
अंडा उत्पादन रजत क्रांति

भारतीय कृषि से जुड़े अन्‍य उपाय :-
भारत की प्रमुख खाद्य फसल कौन सी है – चावल
भारत की प्रमुख खाद्य फसल कौन सी है – चावल
भारत में सबसे अधिक फसल कौन सी उगाई जाती है – धान
भारत में सबसे अधिक खाद्यान्न उत्पन्न करने वाला राज्य कौन सा है – उत्तर प्रदेश
भारत में कुल कार्यशील जनसंख्या का कितने प्रतिशत भाग कृषि में लगा हुआ है – 64.5
अंगूरों की खेती के लिए कौनसा शहर प्रसिद्ध है – नासिक
मूंगफली भारत के सबसे अधिक किस राज्य में उगाई जाती है – गुजरात
चावल का उत्पादन सर्वाधिक किस राज्य में होता है – पश्चिमी बंगाल
भारत के किस राज्य में गेहूं की खेती नहीं होती है – तमिलनाडु
किस फसल की बुवाई में वह कटाई में सबसे अधिक समय लगता है – गन्ना
भारत का उर्वरक उत्पादन विश्व में कौन सा स्थान है – तीसरा
दुग्ध उत्पादन में भारत का कौन सा स्थान है – प्रथम
भारत में सर्वोत्तम चाय कहां पैदा की जाती है – दार्जिलिंग
काजू का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य कौन सा है – केरल
दलहन का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य कौन सा है – राजस्थान
पटसन का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य कौन सा है – पश्चिम बंगाल
तंबाकू उत्पादन में भारत का विश्व में कौन सा स्थान है – तीसरा
भारत का सबसे बड़ा सोयाबीन उत्पादक राज्य कौन सा है – मध्य प्रदेश
नारियल उत्पादन में भारत का विश्व में कौन सा स्थान है – प्रथम
केसर की खेती सबसे अधिक कहां पर होती है – कश्मीर में
कृषि को उद्योग का दर्जा देने वाला प्रथम राज्य कौन सा है – महाराष्ट्र
“चावल का कटोरा” किस नदी क्षेत्र को कहा जाता है – कृष्णा और गोदावरी के क्षेत्र को |

भारत के कृषि विधियों के निम्न प्रकार :-
सेरीकल्चर — रेशमकीट पालन
एपिकल्चर — मधुमक्खी पालन
पिसीकल्चर — मत्स्य पालन
फ्लोरीकल्चर — फूलों का उत्पादन
विटीकल्चर — अंगूर की खेती
वर्मीकल्चर — केंचुआ पालन
पोमोकल्चर — फलों का उत्पादन
ओलेरीकल्चर — सब्जियों का उत्पादन
हॉर्टीकल्चर — बागवानी
एरोपोर्टिक — हवा में पौधे को उगाना
हाइड्रोपोनिक्स — पानी में पौधों को उगाना

भारत के विभिन्न कृषि क्रांतियां :-
हरित क्रांति — खाद्यान्न उत्पादन
श्वेत क्रांति — दुग्ध उत्पादन
नीली क्रांति — मत्स्य उत्पादन
भूरी क्रांति — उर्वरक उत्पादन
रजत क्रांति — अंडा उत्पादन
पीली क्रांति — तिलहन उत्पादन
कृष्ण क्रांति — बायोडीजल उत्पादन
लाल क्रांति — टमाटर/मांस उत्पादन
गुलाबी क्रांति — झींगा मछली उत्पादन
बादामी क्रांति — मासाला उत्पादन
सुनहरी क्रांति — फल उत्पादन
अमृत क्रांति — नदी जोड़ो परियोजनाएं

भारत की कृषि कैसे की जाती है :-
भारत की कृषि सबसे अधिक किस पर निर्भर होती है — वर्षा पर
जो फसल अक्टूबर में बोई जाती है और अप्रैल में काट ली जाती है, वह क्या कहलाती है — रबी की फसल
जो फसल जुलाई में बोई जाती है और अक्टूबर में काटी जाती है, वह कौन-सी फसल होती है — खरीफ की फसल
जो फसल रबी और खरीफ की फसल के बीच तैयार की जाती है, वह कौन-सी है — जायद की फसल
खरीफ की फसल कौन-कौन-सी हैं — ज्वार, बाजरा, मक्का, चावल, तिल आदि
रबी की फसल कौन-कौन सी हैं — गेहूँ, चना, जौ, मटर, सरसों, आलू आदि
जायद की फसल कौन-कौन सी हैं — खरबूजा, ककड़ी खीरा आदि

भारत में सिंचाई से कृषि :-
भारत में शुद्ध बोए गए क्षेत्र के कितने प्रतिशत भाग पर सिंचाई की सुविधा उपलब्ध है ? — 33 प्रतिशत
भारत में शुद्ध बोए गए क्षेत्र कितना है — 1360 लाख हेक्टेयर
वर्तमान में भारत में सबसे अधिक सिंचाई किन साधनों से होती है — कुआं और नलकूप
देश में नहरों से कितने प्रतिशत भाग संचित होता है — 31.4 प्रतिशत
देश में कुआं और नलकूप से कितनी प्रतिशत सिंचाई होती है — 55.9 प्रतिशत
सबसे अधिक नलकूप और पंपसेट कहां पाए जाते हैं — तमिलनाडु (दूसरे स्थान पर महाराष्ट्र है)
सिर्फ नलकूपों की सबसे अधिक सघनता वाला राज्य कौन सा है — उत्तरप्रदेश
तालाब से सिंचाई की दृष्टि से किस राज्य का प्रथम स्थान है — तमिलनाडु
नहरों द्वारा देश में कुल संचित क्षेत्र का सबसे अधिक भाग किस राज्य में है — उत्तरप्रदेश
देश में कौन-सा राज्य ऐसा है जहां सिंचाई के लिए सभी साधनों का इस्तेमाल किया जाता है — आंध्रप्रदेश
कुल कृषि भूमि में सबसे ज्यादा संचित भूमि किस राज्य की है — पंजाब (94.70%)

भारत की निम्न मिट्टियाँ :-
किसी देश की कृषि का मुख्य आधार क्या होता है —उस देश की मिट्टी
भारत में कितने प्रकार की मिट्टी पायी जाती हैं —8
भारत की सबसे महत्वपूर्ण मिट्टी कौन-सी है —जलोढ़ मिट्टी
नवीन जलोढ़ मिट्टी को अन्य किस नाम से जाना जाता है —खादर मिट्टी
किस मिट्टी में पोटाश की मात्रा सबसे अधिक होती है —जलोढ़ मिट्टी में
काली मिट्टी का दूसरा नाम क्या है —रेगुर मिट्टी
काली मिट्टी किस फसल के लिए सबसे अधिक उपयोगी है —कपास
लाल मिट्टी का ‘लाल रंग’ किसके कारण होता है —लौह ऑक्साइड के कारण
किस मिट्टी में आयरन व सिलिका सबसे अधिक पाया जाता है —लैटराइट मिट्टी
चाय की खेती के लिए सबसे उपयुक्त मिट्टी कौन-सी है —लैटराइट मिट्टी
भारत के समस्त स्थल भाग के कितने % भाग में जलोढ़ मिट्टी है —24%
लावा के प्रवाह से किस मिट्टी का निर्माण होता है —काली मिट्टी
कौन-सी मिट्टी जैव पदार्थों से भरपूर होती है —काली मिट्टी
किस मिट्टी का निर्माण बैसाल्ट चट्टानों के विखंडन से होता हैं —काली मिट्टी
किस मिट्टी में कृषि के लिए सिंचाई की आवश्यकता नहीं होती हैं —काली मिट्टी
भारत में लाला मिट्टी का विस्तार सबसे अधिक कहाँ है —आंध्र प्रदेश व तमिलनाडु
किस मिट्टी में लोहे और एल्युमीनियम के कण पाये जाते है —लैटराइट मिट्टी में
धान की खेती के लिए कौन-सी मिट्टी उपयुक्त होती है —दोमट मिट्टी
मृदा अपरदन को कैसे रोका जा सकता है —वन रोपण द्वारा
रेगुड़ मिट्टी सबसे अधिक किस राज्य में पायी जाती है —महाराष्ट्र में
किस प्रकार की मिट्टी में जिप्सम का प्रयोग करके उसे उपजाऊ बनाया जाता है —अम्लीय मिट्टी को
किस प्रकार की म्टिटी में कार्बनिक पदार्थों की अधिकता होती है —काली मिट्टी में
भारत के किस राज्य में अंतर्देशीय लवणीय आर्द्र भूमि है —राजस्थान में
लैटराइट मिट्टी को अन्य किस नाम से जानते हैं —मुखरैला मिट्टी
काली कपासी मिट्टी को किस नाम से जाना जाता है —रेगुड़ मिट्टी
लैटराइट मिट्टी सबसे अधिक कहाँ पायी जाती है —मालाबार तटीय प्रदेशों में
ग्रेनाइट और नाइस चट्टानों के द्वारा किस मिट्टी का निर्माण होता है —लाल मिट्टी का
किस प्रकार की मिट्टी में सबसे कम उर्वरक की आवश्यकता होती है —जलोढ़ मिट्टी में
भारत के उत्तरी मैदानों में किस प्रकार की मिट्टी पाई जाती है —जलोढ़ मिट्टी
किस मिट्टी का प्रायद्वीपीय भारत में सर्वाधिक क्षेत्र है —काली मिट्टी
पुरानी जलोढ़ मिट्टी को अन्य किस नाम से जाना जाता है —बांगर
गंगा में जलोढ़ मिट्टी भूमि की सतह से कितने नीचे तक पाई जाती है —600 मीटर
लैटराइट मिट्टी के निर्माण में उत्तरदायी कौन है —अप क्षालन एवं केशिका क्रिया
कौन-सी मिट्टी सूख जाने पर कठोर एवं गीली होने पर दही की तरह लिपलिपी हो जाती है —लैटराइट मिट्टी
मिट्टी के अध्ययन को क्या कहा जाता है —मृदा विज्ञान
भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद् ने मिट्टी को कितने वर्गों में बाँटा है —8 वर्गों में |

General Notes

Leave a Comment

error: Content is protected !!