भाखड़ा नांगल परियोजना

भाखड़ा नांगल बांध किस राज्य में है

भाखड़ा नांगल परियोजना:- भाखड़ा नांगल परियोजना कहाँ है , भंगड़ा बांध कहाँ पर है , भाखड़ा बांध की ऊंचाई कितनी है , सबसे ऊंचा गुरुत्वीय बाँध कौन सा है , भाखड़ा नांगल परियोजना क्या है , भाखड़ा नांगल परियोजना map , भाखड़ा नांगल कहां स्थित है , भाखड़ा बांध कहाँ है , भाखड़ा नांगल बांध किस नदी पर स्थित है , भाखड़ा नांगल परियोजना अवस्थित है , भाखड़ा नांगल बांध किस राज्य में है

भाखड़ा नांगल बांध की जानकारी और प्रमुख पर्यटन स्थल :- भाखड़ा नांगल बांध हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले में सतलुज नदी पर भाखड़ा गाँव में स्थित है। बता दें कि इस बांध के जलाशय को गोबिंद सागर ’के रूप में जाना जाता है, जिसमें 9.34 बिलियन क्यूबिक मीटर पानी जमा होता है। यह बांध हर साल देश भर से पर्यटकों की एक बड़ी संख्या को अपनी तरफ आकर्षित करता है। भाखड़ा बांध नांगल शहर से 15 किमी दूर है। भाखड़ा नंगल बहुउद्देश्यीय बांध भारत के स्वतंत्र होने के बाद नदी घाटी विकास योजनाओं में से हैं, यह दुनिया के सबसे ऊंचे गुरुत्वाकर्षण बांधों में से एक है। बांध द्वारा बनाया गया गोबिंदसागर जलाशय भारत का तीसरा सबसे बड़ा जलाशय है। भाखड़ा नांगल बांध टिहरी बांध के बाद चौथा सबसे बड़ा बांध है। आपको बता दें कि साल 2009 में भाखड़ा नांगल बांध पर्यटकों के आने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था।

यह भी पढ़े : राजस्थान के प्रमुख मार्बल

भाखड़ा बांध का इतिहास :- भाखड़ा बांध 741 फीट ऊंचा है और इसमें चार स्पिलवे गेट हैं। बांध के लिए प्रारंभिक काम की शुरूवात 1946 में हुई थी जबकि इसका निर्माण 1948 में शुरू हुआ था। जवाहरलाल नेहरू ने 18 नवंबर 1955 को भाखड़ा की नींव में कंक्रीट की पहली बाल्टी डाली थी। साल 1963 के अंत तक इस बांध का निर्माण पूरा हो गया था। शुरुआत में परियोजना को पंजाब के उपराज्यपाल सर लुई डेन द्वारा शुरू किया गया था, लेकिन कुछ कारणों से निर्माण को रोक दिया गया था। भारत के स्वतंत्रत होने के बाद इसका काम मुख्य वास्तुकार राय बहादुर कुंवर सेन गुप्ता द्वारा जारी रखा गया था।

भाखड़ा बांध के बारे में रोचक तथ्य :- भाखड़ा बांध बहुउद्देश्यीय परियोजना है क्योंकि इसको बनाने का उद्देश्य सतलुज-ब्यास नदी में बाढ़ को रोकना है और पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के निकटवर्ती राज्यों को सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध कराना है। यह हाइड्रो-इलेक्ट्रिसिटी का भी प्रदाता है, जो राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, चंडीगढ़ और दिल्ली राज्यों द्वारा उत्पन्न होती है |

प्रबंधन :- भाखड़ा नांगल परियोजना का प्रशासन, रखरखाव और संचालन भाखड़ा प्रबंधन बोर्ड (बीएमबी) द्वारा किया जाता है। 15 मई 1976 को भाखड़ा प्रबंधन बोर्ड का नाम बदलकर भाखड़ा ब्यास प्रबंधन बोर्ड (बीबीएमबी) ब्यास नदी पर बांधों के प्रबंधन के लिए किया गया था।

भाखड़ा बांध निर्माण कार्य :- बाँध का निर्माण सन 1948 में शुरू हुआ था और यह 1963 में पूरा हुआ। सन 1970 में यह बाँध पूर्ण रूप से कार्य करने लगा था।
इस बाँध के पीछे बनी झील का नाम ‘गोविन्द सागर’ है, जो सिक्खों के 10वें गुरु गोविन्द सिंह के नाम पर है, यह बाँध वर्ष 1963 में राष्ट्र को समर्पित किया गया था।
इसकी सहायक ‘इंदिरा सागर परियोजना’ के अंतर्गत राजस्थान तक इंदिरा नहर का विकास किया गया है, जो भारत की सबसे बड़ी नहर प्रणाली है। इसका मुख्य उद्देश्य सिंचाई एवं विद्युत उत्पादन है, इस परियोजना से श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, सीकर, झुंझुनू एवं चुरू ज़िलो को विद्युत प्राप्त होती है, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान तथा हरियाणा इससे लाभान्वित होने वाले राज्य हैं, भाखड़ा नांगल बाँध से 250 छोटे-बड़े क़स्बों और अनेक उद्योगों को लाभ मिलता है, इस बाँध की कुल जल विद्युत उत्पादन क्षमता 1325 मेगावाट है। बाँध से ‘बिस्त दोआब नहर’, ‘सरहिंद नहर’, ‘नरवाना शाखा नहर’ आदि निकाली गयी हैं, बिस्त दोआब से पंजाब को सिंचाई सुविधा प्रदान करती है इस परियोजना से राजस्थान में सर्वाधिक सिंचाई हनुमानगढ़ में होती है तथा अन्य जिलोंको विद्युत प्राप्त होती है |

Rajasthan Geography Notes

Leave a Comment

error: Content is protected !!